ज्यादा नमक खाते हैं अमेरिकी

शिकागो| भाषा|
हमें फॉलो करें
दस में से नौ अमेर‍िकी नागरिक निर्धारित मात्रा से कहीं ज्यादा अपने खाने में लेते हैं और इनमें से कुछ तो वांछित मात्रा से दो गुनी मात्रा में नमक खाकर अपनी को खतरों का न्यौता दे रहे हैं।


अमेरिकी सरकार के शोधकर्ताओं द्वारा किए एक सर्वेक्षण के अनुसार नमक में मौजूद सोडियम की 77 प्रतिशत मात्रा डिब्बा बंद और रेस्तां के खाने में मौजूद होती है।
अमेरिकी रोग नियंत्रण और रोकथाम केन्द्र के नागरिक स्वास्थ्य समीक्षक जे.पी. गुन के अनुसार कि डिब्बा बंद खाद्य पदार्थों और बाजार में मिलने वाले खाद्य पदार्थों में मौजूद नमक में काफी मात्रा में सोडियम होता है। सोडियम की इतनी ज्यादा मौजूदगी से अमरीकी लोगों का बच पाना काफी मुश्किल है।

गुन की ओर से जारी एक बयान के अनुसार लोगों के खाने में सोडियम की मात्रा कम से कम पहुँचे इसके लिए निजी चिकित्सकों, खाद्य पदार्थों के उत्पादकों, विक्रेताओं और स्वास्थ्य सेवाओं के साथ मिल कर काम करना चाहिए।


इस अध्ययन में कहा गया है कि अधिकांश अमरीकी एक दिन में तीन हजार 466 मिलीग्राम सोडियम का सेवन करते हैं। सोडियम की निर्धारित मात्रा से यह काफी ज्यादा है। सोडियम की अधिकतर मात्रा पिज्जा, बिस्कुट और माँसाहारी खाद्य पदार्थ में मौजूद होती है। अधिकतर लोग इन चीजों के शौकीन होते हैं और फास्ट फूड के जरिये अंजाने में ही इनके शरीर में आवश्यकता से अधिक सोडियम की मात्रा पहुँच जाती है।
वर्ष 2005 में अमेरिकी लोगों के लिए जारी आहार संबंधी दिशा-निर्देश के मुताबिक प्रतिदिन दो हजार 300 मिली ग्राम सोडियम से अधिक की मात्रा नुकसान दायक हो सकती है। वहीं 2010 में प्रस्तावित नए दिशा-निर्देश में सोडियम की मात्रा को पहले की तुलना में घटा कर डेढ़ हजार मिलीग्राम किया जाएगा।

नमक के ज्यादा सेवन से रक्त चाप बढ़ सकता है, जिससे किडनी फेल होने और दिल के दौरे का खतरा काफी बढ़ जाता है।
चिकित्सा संस्थान ने गत फरवरी माह में कहा था कि रक्त चाप एक ऐसी बीमारी है, जिसमें अमेर‍िकी स्वास्थ विभाग को सालाना 73 अरब डालर का खर्च उठाना पड़ता है। (भाषा)



और भी पढ़ें :