अंतर्मन की आवाज सुनो

मीनाक्षी गोयल

ND|
ND
जब तुमको हताशा घेर ले
की सुनो
जब तुमको निराशा घेर ले
अंतर्मन की आवाज सुनो
यह जिंदगी अनमोल है
बिन अर्थों के यह नष्ट न हो
दुनिया में ऐसा कोई नहीं
जिसको कोई भी कष्ट न हो
नाकामी को तुम का
अंत कभी भी ना मानोमेहनत में कोई कमी रही
इस सच्चाई को पहचानो
अपना जीवन बेकार समझ
खिलवाड़ अगर तुम करते हो
अपने, अपनों को भी तो तुम
जीवन भर का दुख देते हो
क्यों तुमने ऐसा सोच लिया
कि कोई तुम्हारे साथ नहीं
कठिनाई के इस मौसम में हाथों में कोई हाथ नहीं
अपनी प्रतिभा को पहचानो
खुद को एकाकी ना मानो
इस जीवन का सम्मान करो
अपने ऊपर अभिमान करो
ऐसी कायरता दिखलाकर
इसका न यूँ अपमान करो
यह जीवन जी कर जाओ तुम
अपने को सफल बनाओ तुम
यह विश्व तुम्हारे गुण गाएकुछ ऐसा कर दिखलाओ तुम
ND
इस जग के भावी निर्माता
बस मेरा यह संदेश सुनो
बिन मकसद मरना ठीक नहीं
इस पथ के राही नहीं बनो
बुनना ही है तो जीवन में
तुम आशाओं के स्वप्न बुनोजग में फूलों की कमी नहीं
फिर क्यों काँटों की राह चुनो
जब तुमको हताशा घेर ले
अंतर्मन की आवाज सुनो
जब तुमको निराशा घेर ले
अंतर्मन की आवाज सुनो।



और भी पढ़ें :