प्रेम संदेश पहले और अब

प्रेम पत्र की जगह ली ई-कार्ड ने

NDND
में संदेशों का बहुत अधिक महत्व होता है। जहाँ विचारों के आदान-प्रदान का एक माध्यम होते हैं, वहीं दूसरी ओर संदेश प्यार को प्रगाढ़ता व रिश्ते को नई ऊर्जा भी प्रदान करते हैं। प्रेमियों के लिए डे एक खास दिन होता है। उनके लिए यह दिन अपने प्यार के का एक अच्छा मौका होता है, जब वे अपने वेलेंटाइन को अपने दिल की बात कह देते हैं।

पहले के जमाने में प्रेम-संदेश कबूतर या मुसाफिर के माध्यम से प्रेषित किए जाते थें। उस जमाने के प्रेमियों में इतना धैर्य होता था कि वे कई दिनों तक संदेश के उत्तर का इंतजार भी कर लेते थें परंतु आजकल के प्रेमियों में सब्र नाम की चीज ही नहीं होती है। उनको तो इज़हार और प्यार दोनों में ही देरी बर्दाश्त नहीं होती है।

अपने प्रेमी का दिल जीतने के लिए हर कोई अलग-अलग तरीके अपनाता है। कोई प्रेमी अपनी प्रेमिका का नाम का टेटू अपने शरीर पर गुदवाता है तो कोई उसके लिए आलीशान बंगला बनवाता है। हर किसी के प्यार के इज़हार का तरीका अनूठा व कुछ हट कर होता है।

  प्यार में संदेशों का बहुत अधिक महत्व होता है। संदेश जहाँ विचारों के आदान-प्रदान का एक माध्यम होते हैं, वहीं दूसरी ओर संदेश प्यार को प्रगाढ़ता व रिश्ते को नई ऊर्जा भी प्रदान करते हैं।      
वर्तमान के तेजी से बदलते दौर में पोस्टकार्ड व अंर्तदेशीय की जगह ई-कार्डस, एसएमएस, ई-मेल, आदि ने ले ली है, जिनके माध्यम से संदेशों को भेजना आसान हो गया है। लेकिन फिर भी चोरी-छिपे प्यार के इजहार के कुछ परंपरागत तरीके आज भी बदस्तूर कायम है।

आज भी में किताबों के माध्यम से प्रेम संदेशों का आदान-प्रदान होता है तो एक-दूसरे के दोस्तों को संदेशवाहक बनाकर प्यार का संदेश भेजा जाता है।

गायत्री शर्मा|
प्यार का इज़हार करने के तरीके कुछ भी हो परंतु मकसद केवल एक होता है और वो है अपनी प्रेमी तक अपने दिल की बात पहुँचाना। तो क्यों न आप भी इस वेलेंटाइन पर अपने प्यार को एक प्यारा सा संदेश भेजकर अपनी भावनाओं को अभिव्यक्त करें।



और भी पढ़ें :