यूपी में गैंगस्टर बदन सिंह बद्दो की पहले कोठी गिराई, अब करोड़ों की जमीन जब्त

Author हिमा अग्रवाल| Last Updated: गुरुवार, 25 फ़रवरी 2021 (00:24 IST)
मेरठ। ढाई लाख के इनामी और मोस्ट वांटेड बदन सिंह बद्दो के अवैध बंगले की कुर्की और ध्वस्तीकरण के बाद अब जमीन पर भी सरकारी कब्जा हो गया है। मेरठ के थाना टीपी नगर क्षेत्र के पंजाबी पुरा इलाके में कुछ समय पहले बद्दो की आलीशान कोठी हुआ करती थी, जिसे मेरठ विकास प्राधिकरण ने विगत जनवरी माह में जमींदोज कर दिया था।

प्रशासन ने अब जमींदोज कोठी की ज़मीन भी ज़ब्त करते हुए मलबे के जब्तीकरण की कार्रवाई शुरू कर दी है। इस जमीन की कीमत लगभग 3 करोड़ आंकी जा रही है, इस बेशकीमती जमीन पर अब पुलिस ने संपत्ति पर कब्ज़े का बोर्ड लगा दिया है। ध्वस्त कोठी का मलबा भी लाखों रुपए का आंका जा रहा है।

गौरतलब है कि दो साल पहले पुलिस कस्टडी से बदन सिंह बद्दो फरार हो गया था, उसकी फरारी में सहयोग करने वाले 17 लोगों पर अब तक पुलिस का चाबुक चल चुका है। बद्दो की फरारी के बाद से पुलिस उसकी तलाश में लगी हुई है, लेकिन माफिया बद्दो पुलिस की गिरफ्त से दूर है। हालांकि कुछ समय पहले उसका फेसबुक एकाउंट अपडेट हुआ था।
कुख्यात के विदेश भागने की आशंका के चलते रेड कॉर्नर नोटिस भी जारी हुआ, लेकिन उसका आज तक पुलिस सुराग भी जुटा नहीं पाई है। गैंगस्टर बदन सिंह की करीब 3 करोड़ रुपए की संपत्ति को डीएम ने ज़ब्त करने का आदेश दिया है। ब्रह्मपुरी सर्किल आफिसर को उक्त संपत्ति का प्रशासक नियुक्त किया गया है।
जिला मजिस्ट्रेट के. बालाजी की तरफ से जारी आदेश के अनुसार बद्दो निवासी बेरीपुरा के विरुद्ध ब्रह्मपुरी थाने ने गैंगस्टर एक्ट में मुकदमा दर्ज है। उसके द्वारा अपराध में अर्जित की गई संपत्ति को गैंगस्टर एक्ट के तहत कब्जा कर लिया गया है। इसकी अनुमानित कीमत करीब 3 करोड़ आंकी जा रही है।

बद्दो 28 मार्च 2019 को मेरठ के होटल से फरार हो गया था। उस दिन वह फतेहगढ़ सेंट्रल जेल से गाजियाबाद कोर्ट में पेशी पर आया था। बद्दो ने एक होटल में रुककर पुलिस वालों के साथ खाना खाया। इसी बीच, उसने पुलिस को चकमा दिया और फरार हो गया। इस मोस्ट वांटेड की 7 नवंबर 2020 में पुलिस द्वारा बद्दो की कोठी की कुर्की की गई थी, जिसमें डेढ़ करोड़ मूल्य का सामान जब्त हुआ था। बद्दो की भाभी कुलदीप कौर ने कमिश्नर कोर्ट में एमडीए के ध्वस्तीकरण आदेश के खिलाफ अपील की थी, लेकिन वो मालिकाना हक के सुबूत दिखाने में नाकाम रही। इसके चलते जनवरी 2020 में मेरठ विकास प्राधिकरण ने करोड़ों रुपए की अवैध कोठी को गिरा दिया गया था।
बुधवार को मेरठ डीएम के आदेश पर पुलिस ने गैंगस्टर एक्ट में कार्रवाई करते हुए सरकारी जब्तीकरण का बोर्ड लगा दिया है। बद्दो पर अपहरण, रंगदारी, हत्या के तीन दर्जन से अधिक संगीन मामले दर्ज हैं। बद्दो ने 40 करोड़ मूल्य के एक पार्क पर अवैध रूप से कब्जा कर रखा है। जिस पर कार्रवाई के लिए कमिश्नर के यहां फाइल लंबित है। बद्दो के खिलाफ रेड कार्नर नोटिस भी जारी किया गया है, लेकिन फिर भी वह पुलिस को चकमा देकर फरार है। वैधानिक प्रक्रिया पुलिस की चल रही है। वहीं, पुलिस के मुताबिक ऐसे कोई प्रमाण नहीं मिल रहे हैं कि वह विदेश में है।

बद्दो के बेटे को भी पुलिस ढूंढ नहीं पा रही है, सिकंदर भी पिता के साथ अपराध की दुनिया में नाम कमा रहा है। पुलिस ने कई मामलों में सिकंदर पर मामले दर्ज किए हैं। वहीं, फरारी के मामले में सिकंदर के विरुद्ध कोर्ट में चार्जशीट लग चुकी है। हालांकि पश्चिमी उत्तर प्रदेश में माफिया की सम्पत्ति का जमींदोज करके सम्पत्ति जब्त करने का यह पहला मामला है। इस कार्रवाई से ये तो तय है कि वेस्ट यूपी के अपराधियों की अब नींद उड़ गई होगी।



और भी पढ़ें :