गोरखपुर पुलिस पिटाई केस : कानपुर में मृतक प्रॉपर्टी डीलर के परिवार से मिलेंगे CM योगी, गर्माई यूपी की सियासत

पुनः संशोधित बुधवार, 29 सितम्बर 2021 (23:35 IST)
हमें फॉलो करें
लखनऊ। उत्तरप्रदेश की गोरखपुर पुलिस की कथित पिटाई से के प्रापर्टी डीलर की मौत को लेकर राजनीति गरमा गई है। गोरखपुर के रामगढ़ताल क्षेत्र के एक होटल में कानपुर के बर्रा क्षेत्र के निवासी प्रापर्टी डीलर मनीष गुप्ता की सोमवार रात पिटाई से मौत हो गई थी।
मृतक की पत्नी मीनाक्षी की नामजद तहरीर के आधार पर रामगढ़ताल के थाना प्रभारी जगत नारायण सिंह, उप निरीक्षक अक्षय मिश्रा और उपनिरीक्षक विजय यादव के अलावा तीन अज्ञात के खिलाफ आईपीसी की धारा 302 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है।

इस बारे में हालांकि वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने सफाई दी है कि अपराधियों के खिलाफ अभियान के तहत पुलिस ने कृष्णा होटल पर छापा मारा था जहां उसे एक कमरे में तीन युवक मिले थे। पूछताछ के दौरान हड़बड़ाहट में एक युवक की गिरने से चोट लग गई जिसे होटल मालिक की मौजूदगी में अस्पताल ले जाया गया जहां उसकी मौत हो गई।

सूत्रों के अनुसार मुख्यमंत्री ने गुरुवार को कानपुर दौरे के दौरान मृतक व्यवसाई के परिजनों से मुलाकात कर सकते हैं। योगी कल कानपुर के डीएवी ग्राउंड में आयोजित एक कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे।
उधर, प्रापर्टी डीलर की मौत को लेकर विपक्ष के तेवर उग्र हो गये हैं। समाजवादी पार्टी (सपा), बहुजन समाज पार्टी (बसपा) और कांग्रेस ने इस संवेदनशील मामले में योगी सरकार को घेरना शुरू कर दिया है। एसएसपी के बयान के वीडियो के साथ सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्वीट किया कि झूठ का फूल’। इससे पहले यादव पुलिस की कार्यशैली पर सवालिया निशान लगाते हुये ट्वीट कर चुके हैं “ गोरखपुर में पुलिस की बर्बरता ने एक युवा व्यापारी की जान ले ली। ये बहुत ही दुखद और निंदनीय है। उप्र की भाजपा सरकार ने एनकाउंटर की जिस हिंसक संस्कृति को जन्म दिया है, ये उसी का दुष्परिणाम है। संलिप्त लोगों पर हत्या का मुक़दमा चले और उप्र को हिंसा में धकेलनेवाले इस्तीफ़ा दें।”
बसपा सुप्रीमो मायावती ने इस मामले में सरकार को घेरते हुए कहा कि यूपी सीएम के गृह जनपद गोरखपुर की पुलिस द्वारा होटल में रात्रि रेड करके तीन व्यापारियों के साथ बर्बर व्यवहार व उसमें से एक की मौत अति-दुःखद व शर्मनाक घटना, जो राज्य में भाजपा सरकार के कानून-व्यवस्था के दावों की पोल खोलता है। वास्तव में ऐसी घटनाओं से पूरा प्रदेश पीड़ित है। राज्य सरकार से पीड़ित परिवार को हर स्तर पर समुचित न्याय देने के साथ-साथ ऐसी अन्य जघन्य घटनाओं को भी अति-गंभीरता से लेकर इनकी पुनरावृति को रोकना सुनिश्चित करने के लिए प्रभावी उपाय करने की बीएसपी की मांग।
लखनऊ दौरे पर आई कांग्रेस महासचिव ने मृतक व्यवसायी की पत्नी से फोन पर बात कर ढांढस बंधाया और न्याय की लड़ाई में साथ खड़े रहना का आश्वासन दिया।

उन्होने ट्वीट किया कि खबरों के अनुसार गोरखपुर में एक कारोबारी को पुलिस ने इतना पीटा कि उनकी मृत्यु हो गई। इस घटना से पूरे प्रदेश के आमजनों में भय व्याप्त है। इस सरकार में जंगलराज का ये आलम है कि पुलिस अपराधियों पर नर्म रहती है और आमजनों से बर्बर व्यवहार करती है। (वार्ता)



और भी पढ़ें :