ख़ुदा करे....

WD|

मिलेंगे अब हमें हर सू डरावने मंज़र,
हमारे साथ वो आए, जो बदहवास न हो
न जाने कब से लहू पी रहा है वो अपना,
ख़ुदा करे कि किसी को भी ऐसी प्यास न हो।

- अमीर कज़लबाश


और भी पढ़ें :