अमेरिका-ईरान तनाव घटने से सेंसेक्स संभला, निफ्टी में भी सुधार

मुंबई| पुनः संशोधित मंगलवार, 7 जनवरी 2020 (19:33 IST)
मुंबई। बंबई का लगातार दो कारोबारी सत्रों की जोरदार गिरावट के बाद मंगलवार को सुधर गया। अमेरिका-ईरान के बीच तनाव और आगे नहीं बढ़ा है, जिससे निवेशकों की धारणा में सुधार हुआ। वैश्विक बाजारों में सुधार के बीच यहां भी बाजार की धारणा मजबूत हुई।
बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 192.84 अंक या 0.47 प्रतिशत की बढ़त के साथ 40,869.47 अंक पर बंद हुआ। दिन में कारोबार के दौरान यह 553.51 अंक तक की बढ़त के साथ 41,230.14 अंक तक पहुंचा था।

इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 59.90 अंक या 0.50 प्रतिशत की बढ़त के साथ 12,052.95 अंक पर बंद हुआ। एक समय यह 159 अंक तक चढ़ा था। घरेलू शेयर बाजारों ने सोमवार को करीब 6 माह में एक दिन की सबसे बड़ी गिरावट दर्ज की थी।
ईरान-अमेरिका तनाव कम होने से कच्चे तेल के दाम नीचे आए। इससे रुपया भी कुछ सुधरा। सेंसेक्स की कंपनियों में अल्ट्राटेक सीमेंट सबसे अधिक 2.10 प्रतिशत चढ़ गया। एचडीएफसी बैंक, रिलायंस इंडस्ट्रीज, सनफार्मा, एनटीपीसी और एशियन पेंट्स के शेयर भी लाभ में रहे।

वहीं, दूसरी ओर इन्फोसिस, आईसीआईसीआई बैंक, भारती एयरटेल, नेस्ले इंडिया, हीरो मोटोकॉर्प और पावरग्रिड के शेयरों में गिरावट आई। बीएसई मिडकैप और स्मॉलकैप 0.99 प्रतिशत तक चढ़ गए।
जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा कि ईरान पर विश्व नेताओं का दबाव है कि वह इस मुद्दे को और आगे नहीं बढ़ाए। पश्चिम एशिया में तनाव कम होने से बाजार सोमवार के नुकसान से उबर गया। ईरान ने अभी तक जवाबी कदम नहीं उठाया है, जिससे कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट आई।

सांख्यिकी मंत्रालय द्वारा 2019-20 के लिए सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की वृद्धि दर का अग्रिम अनुमान पांच प्रतिशत रखे जाने की संभावना है, लेकिन इससे बाजार पर प्रभाव नहीं पड़ेगा। बाजार पहले ही इसे मानकर चल रहा है।
इन घटनाक्रमों के बीच ब्रेंट कच्चा तेल का वायदा बाजार 0.26 प्रतिशत टूटकर 68.73 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया। अंतर बैंक विदेशी विनिमय बाजार में दिन में कारोबार के दौरान रुपया 11 पैसे की बढ़त के साथ 71.83 प्रति डॉलर पर चल रहा था।

इस बीच, पेंटागन ने सोमवार को अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के इस बयान से दूरी बना ली कि वह ईरान की सांस्कृतिक स्थलों पर बमबारी कराएंगे जबकि इस तरह के हमलों पर अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंध है। इस बीच, ईरान की संसद ने एक विधेयक पारित कर सभी अमेरिकी बलों को ‘आतंकवादी’ करार दिया है।
चीन का शंघाई, हांगकांग का हैंगसेंग, जापान का निक्की और दक्षिण कोरिया का कॉस्पी उल्लेखनीय लाभ के साथ बंद हुए। शुरुआती कारोबार में यूरोपीय बाजार भी बढ़त में थे। चालू वित्त वर्ष के लिए जीडीपी का पहला अग्रिम अनुमान मंगलवार को बाद में जारी होगा।



और भी पढ़ें :