भगवान कृष्ण से जुड़ी 11 रोचक बातें

'हे धनंजय! मुझसे भिन्न दूसरा कोई भी परम कारण नहीं है। माया द्वारा जिनका ज्ञान हरा जा चुका है, ऐसे आसुर-स्वभाव को धारण किए हुए, मनुष्यों में नीच, दूषित कर्म करने वाले मूढ़ लोग मुझको नहीं भजते।'- गीता
कृष्ण को हिंदू धर्म में पूर्णावतार माना गया है। कृष्ण को ईश्वर मानना अनुचित है, किंतु इस धरती पर उनसे बड़ा ईश्वरतुल्य कोई नहीं है इसीलिए उन्हें पूर्ण अवतार कहा गया है। कृष्ण ही गुरु और सखा हैं। कृष्ण ही भगवान हैं। कृष्ण हैं राजनीति, धर्म, दर्शन और योग का पूर्ण वक्तव्य। > > कृष्ण को जानना और उन्हीं की भक्ति करना ही हिंदुत्व का भक्ति मार्ग है। अन्य की भक्ति सिर्फ भ्रम, भटकाव और निर्णयहीनता के मार्ग पर ले जाती है। भजगोविंदम मूढ़मते।
कृष्ण ने कब देह छोड़ दी थी, जानिए ऐतिहासिक प्रमाण...



और भी पढ़ें :