0

वेलेंटाइन डे पर कविता : मुझे प्यार है...

बुधवार,फ़रवरी 13, 2019
0
1

प्रेम गीत : मचलती तमन्नाओं ने

शुक्रवार,दिसंबर 14, 2018
मचलती तमन्नाओं ने आजमाया भी होगा, बदलती रुत में ये अक्स शरमाया भी होगा
1
2
बात मुद्दत से जो थी आंखों में आज लबों पे उतर आई है तू मेरे इश्क की इबारत है तू इसे पढ़ न पाई है
2
3
मेरे आंसुओं से कहानी न पूछो वो तुमको भी आकर रुला जाएंगे झूठी कहानी और झूठा फसाना
3
4
वो गया दफ़अतन कई बार मुझे छोड़के, पर लौटकर फिर मुझ में ही आता रहा। कुछ तो मजबूरियां थीं उसकी अपनी भी, पर चोरी-छिपे ही मोहब्बत निभाता रहा।
4
4
5
नाराज़ हैं मेहरबाँ मेरे,अब आ भी जाओ,कि अंजुमन को तेरी दरक़ार है, ढूँढता रहा,
5
6
है नहीं यकीन तुमको है, नहीं यकीन मुझको, फिर ये खत-दर-खत गुफ़्तगू क्या है।।1।।
6
7
मैंने इश्क़ किया और बस आग से खेलता रहा' एक घड़ी जलता रहा, एक घड़ी बुझता रहा ।।1।।
7
8
दर पे खड़ा मुलाकात को तुम आती भी नहीं, शायद मेरी आवाज़ तुम तक जाती भी नहीं।
8
8
9
उम्र भर सवालों में उलझते रहे स्नेह के स्पर्श को तरसते रहे, फिर भी सुकूँ दे जाती हैं तन्हाईयाँ आख़िर किश्तों में हँसते रहे
9
10
काश प्यार न किया होता बेपनाह, दिल लगा के लगता है कर दिया कोई गुनाह, दिन अब जलते हैं और रातें सुलगती हैं, किनारों से लड़ती लहरों में मुझे मेरी तड़प झलकती है।
10
11
तेरी याद जीने नहीं देती दायित्वों का ख्याल मरने नहीं देता। जिस्म पर निशान हलके फुल्के लगते है, अंतरमन धूं धूं कर दहक रहा है।
11
12
देख रही हूं कुछ गड़बड़ है, ये बेचैनी और ये हड़बड़ है!! मोहब्बत नई दिखे है जालिम, बोली में भी तेरे खड़खड़ है!!
12
13
ओस की बूंद आकाश से गिरकर, फूलों और पत्तियों पर ठहर जाएगी। रातभर रोया है चांद किसी की याद में, यह कहानी धरा
13
14
तुम्हे प्यार नहीं तो क्या मुझको दीवाना कह लो। उम्मीदे वफ़ा नहीं तो क्या, मुझको दीवाना कह लो।
14
15

कविता : आ जाती हैं कुछ यादें

बुधवार,अप्रैल 18, 2018
धूल की पर्तों के नीचे तस्वीरों में अहसास जगाती हुई, ख़्वाहिशें कांधे पे लिए कुछ इठलाती हुईं, आ जाती हैं कुछ यादें दिल को बहकाती हुईं।
15
16
क्या था तुम्हारी उस एक छुअन में, कि वो शाम याद आती है, तो जाती नहीं।अजब-सा खुमार था तुम्हारे सुरूर का,
16
17
मैं हूं तेरा दीवाना, तू नहीं करीब मेरे, मैं तेरे आसपास हूं। तेरी तस्वीर को, ले के घूमता हूं...
17
18
अचानक उनका दीदार हुआ, हमारा ख्वाब जमीं पे उतर आया। मुलाकात का सरूर आंखों में उतर आया, हमें अहसास हुआ कि हमें वो पसंद करने लगा।
18
19

गजल : कुछ बातें अधूरी हैं...

मंगलवार,फ़रवरी 13, 2018
कुछ बातें अधूरी हैं, कहना भी ज़रूरी है, बिछड़ना मजबूरी था, मिलना भी ज़रूरी है।
19
विज्ञापन
Traveling to UK? Check MOT of car before you buy or Lease with checkmot.com®