0

बिल्ववृक्ष और महालक्ष्मी की दुर्लभ कथा भोलेनाथ ने सुनाई माता पार्वती को

रविवार,सितम्बर 27, 2020
0
1
विनायक चतुर्थी की पौराणिक व्रत कथा के अनुसार एक दिन भगवान भोलेनाथ स्नान करने के लिए कैलाश पर्वत से भोगवती गए। महादेव के प्रस्थान करने के बाद मां पार्वती ने स्नान प्रारंभ किया और घर में स्नान करते हुए
1
2
इस वर्ष हिन्दू माह आश्विन माह में ही अधिक मास अर्थात मलमास या पुरुषोत्तम मास प्रारंभ हो रहा है जो 18 सितंबर 2020 से 16 अक्टूबर 2020 तक रहेगा। यही कारण है कि इस बार श्राद्ध पक्ष समाप्त होने के एक माह बाद नवरात्रि प्रारंभ होगी। पुराणों में अधिकमास ...
2
3
महाराजा शर्याति अपनी पत्नी के साथ उस स्थान पर पहुंचे और देखते हुए दुखी मन से बोले- 'बेटी! तुमने बड़ा पाप कर डाला। यह च्यवन ऋषि हैं जिनकी तुमने आंख फोड़ दी है।'
3
4
धिष्ठिर श्रीकृष्ण भगवान से बोले- 'हे पुरुषोत्तम! नष्ट हुए अपने स्थान की पुन: प्राप्ति कराने वाले और पुत्र, आयु, ऐश्वर्य तथा मनोवांछित फल देने वाले किसी एक व्रत को मुझसे कहिए।
4
4
5
महाभारत काल में एक बार महालक्ष्मी का पर्व आया। हस्तिनापुर में गांधारी ने नगर की सभी स्त्रियों को पूजा का निमंत्रण दिया परन्तु कुन्ती से नहीं कहा।
5
6
शुभ मुहूर्त में देवी लक्ष्मी जी के तुम्हारे घर आने के बाद तुम्हारा घर धन और धान्य से भर जाएगा। यह कहकर श्री विष्णु जी चले गए।
6
7
श्री महालक्ष्मी व्रत भाद्रपद शुक्ल अष्टमी से प्रारंभ किया जाता है। इस दिन स्नान करके 16 सूत के धागों का डोरा बनाएं, उसमें 16 गांठ लगाएं,
7
8
माह की किसी भी चतुर्थी के दिन भगवान श्री गणेश की पूजा के दौरान संकष्टी गणेश चतुर्थी व्रत की कथा पढ़ना अथवा सुनना जरूरी होता है।
8
8
9
पितृ पक्ष की लोककथा के अनुसार जोगे तथा भोगे दो भाई थे। दोनों अलग-अलग रहते थे। जोगे धनी था और भोगे निर्धन। दोनों में परस्पर बड़ा प्रेम था। जोगे की पत्नी को धन का अभिमान था, किंतु भोगे की पत्नी बड़ी सरल हृदय थी।
9
10
कथा के अनुसार, महाभारत के दौरान, कर्ण की मृत्यु हो जाने के बाद जब उनकी आत्मा स्वर्ग में पहुंची तो उन्हें बहुत सारा सोना और गहने दिए गए। कर्ण की आत्मा को कुछ समझ नहीं आया, वह तो आहार तलाश रहे थे।
10
11
2 सितंबर 2020, बुधवार को ओणम पर्व मनाया जा रहा है। यहां पाठकों के लिए प्रस्तुत है राजा बलि की पौराणिक कथा।
11
12
अनंत चतुर्दशी की व्रत कथा कुछ इस प्रकार है। पुराने समय में सुमंत नाम के एक ऋषि हुआ करते थे उनकी पत्नी का नाम दीक्षा था। दोनों की बेटी सुशीला थी। सुशीला थोड़ी बड़ी हुई तो मां दीक्षा का स्वर्गवास हो गया।
12
13
स्कंद और कार्तिकेय एक ही हैं। शिव के दूसरे पुत्र कार्तिकेय को सुब्रमण्यम, मुरुगन और स्कंद भी कहा जाता है। उनके जन्म की कथा के अनुसार जब पिता दक्ष के यज्ञ में भगवान शिव
13
14
एक बार नारदजी वैकुण्ठ आए, तो उन्होंने देखा कि महाविष्णु चित्र बनाने में मग्न हैं .... विष्णु को उनकी ओर देखने का अवकाश नहीं।
14
15
30 अगस्त को रवि प्रदोष व्रत मनाया जा रहा है। एक समय सर्व प्राणियों के हितार्थ परम पावन भागीरथी के तट पर ऋषि समाज द्वारा विशाल गोष्ठी का आयोजन किया गया।
15
16
वामनावतार के विषय में श्री मद्भगवदपुराण में एक कथा आती है जिसके अनुसार एक बार देव-दैत्य युद्ध में दैत्य पराजित हुए तथा मृत दैत्यों को लेकर वे अस्ताचल की ओर चले गए। दैत्यराज बलि की इंद्र वज्र से मृत्यु हो जाती है।
16
17
श्राद्ध पर्व पर यह कथा अधिकांश क्षेत्रों में सुनाई जाती है। कथा के अनुसार, महाभारत के दौरान, कर्ण की मृत्यु हो जाने के बाद जब उनकी आत्मा स्वर्ग में पहुंची
17
18
24 अगस्त 2020 को मोरयाई छठ, सूर्य षष्ठी,चम्पा षष्ठी और सबसे खास ललिता षष्ठी व्रत है...इस दिन देवी ललिता की कथा का पाठ करना चाहिए...
18
19
चतुर्थी तिथि शुरू होने से लेकर खत्म होने तक चंद्रमा का दर्शन नहीं करना चाहिए। यदि भूल से गणेश चतुर्थी के दिन चंद्रमा के दर्शन हो जाएं तो मिथ्या दोष से बचाव के लिए निम्नलिखित मंत्र का जाप करना चाहिए तथा दी गई कथा का श्रवण करना चाहिए ...
19