1. धर्म-संसार
  2. धर्मयात्रा
  3. आलेख
  4. islamic holy places
Written By अनिरुद्ध जोशी 'शतायु'

इस्लाम धर्म के पवित्रतम स्थल

दिव्य दर्शन के इस भाग में जानते हैं हम इस्लाम धर्म के प्रमुख मुकद्दस स्थलों के बारे में संक्षिप्त जानकारी।
 
मुकद्दस स्थल नंबर-1
पवित्र काबा (मक्का, सऊदी अरब):- पवित्र काबा सऊदी अरब के हेजाज प्रांत की राजधानी मक्का में स्थित है। मक्का शहर वार्षिक हज तीर्थयात्रा, जो इस्लाम के 5 स्तंभों में एक है, के लिए प्रसिद्ध है। यहां प्रत्येक वर्ष मुहर्रम माह में लगभग 20 से 25 लाख हजयात्री आते हैं। यहां काबा के अलावा मस्जिद-अल-हरम भी स्थित है। मक्का में ही पैगंबर हजरत मुहम्मद अलैहिस्सलाम का जन्म हुआ था। पैगंबर हजरत इब्राहीम ने मक्का में काबा को सबसे पहले पवित्र जगह बनाया था। यहां उन्होंने ही पुनर्निर्माण कार्य किया था।
मुकद्दस स्थल नंबर-2
पैगंबर मस्जिद (मदीना, सऊदी अरब):- इस्लाम धर्म के पवित्रतम स्थलों में दूसरा मदीना है। मदीना का पूरा नाम मदीना रसूल अल्लाह है जिसका अर्थ होता है- अल्लाह के दूत की नगरी। इसका छोटा रूप अल मदीना है जिसका अर्थ है नगर। यह पश्चिमी सऊदी अरब के हिजाज क्षेत्र में स्थित है। इस नगर को पहले 'यथरीब' कहा जाता था।
 
मक्का से हिजरत करने के बाद पैगंबर हजरत मुहम्मद स. अलैहिस्सलाम ने मदीना शहर को अपना ठिकाना बनाया। मक्का से निकलकर पैगंबर साहब मदीना के लिए निकल पड़े। उनकी इस यात्रा को 'हिजरत' कहा जाता है। यहीं पर पैगंबर ने अपने जीवन का अंतिम समय गुजारा और यहीं पर उनकी वफात हुई। कहते हैं कि 632 ईस्वी, 28 सफर हिजरी सन् 11 को 63 वर्ष की उम्र में हजरत मुहम्मद सल्लाहओ अलैव सल्लम ने मदीना में दुनिया से पर्दा कर लिया।
 
पवित्र नगरी मदीना में पैगंबर मुहम्मद सल्लाहओ अलैव सल्लम अलैहिस्सलाम की अल-नबी के नाम से प्रसिद्ध मस्जिद स्थित है। इस मस्जिद का निर्माण पैगंबर सल्लाहओ अलैव सल्लम के घर के पास ही किया गया है, जहां उनको दफनाया गया था। इस्लाम धर्म की प्रथम मस्जिद यहीं स्थित है, जो मस्जिद 'अल कूबा' के नाम से पूरे विश्व में प्रसिद्ध है। 
 
मुकद्दस स्थल नंबर-3
अल अक्सा मस्जिद (यरुशलम, इसराइल) :- इसराइल की राजधानी यरुशलम में स्थित अल अक्सा मस्जिद को 'अलहरम-अलशरीफ' के नाम से भी जाना जाता है। मुसलमान इसे तीसरा सबसे पवित्र स्थल मानते हैं। उनका विश्वास है कि यहीं से हजरत मुहम्मद सल्लाहओ अलैव सल्लम जन्नत की तरफ गए थे और अल्लाह का आदेश लेकर पृथ्वी पर लौटे थे। यहीं से पैगंबर साहब मेराज के लिए गए थे।

वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक करें...
मुकद्दस स्थल नंबर-4
कर्बला (बगदाद, इराक) :- कर्बला वह स्थान है, जहां पैगंबर हजरत मुहम्मद सल्लाहओ अलैव सल्लम के नवासे (नाती) हजरत हसन और हजरात हुसैन सत्य और न्याय की रक्षा के लिए शहीद हो गए थे। यहां उनकी जंग यजीदी फौज से हुई थी। कर्बला, इराक की राजधानी बगदाद से 100 किलोमीटर दूर उत्तर-पूर्व में एक छोटा-सा कस्बा है। पैगम्बरे इस्लाम के स्वर्गवास के 40 वर्षों बाद सन् 50 हिजरी कमरी 28 सफर को इमाम हुसैन शहीद हुए थे।
 
मुकद्दस स्थल नंबर-5
चेरामन पेरुमल मस्जिद (केरल, भारत):- केरल के त्रिशूर जिले में स्थित चेरामन पेरुमल मस्जिद को भारत की पहली मस्जिद माना जाता है। ऐसी मान्यता है कि यह भारत की प्रचीनतम मस्जिद है। यह मस्जिद केरल के कोडुंगलूर क्षेत्र में स्थित है। 
 
मुकद्दस स्थल नंबर-6
ख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती दरगाह (अजमेर, भारत):- भारतीय राज्य राजस्थान में अजमेर की तारागढ़ पहाड़ी की तलहटी में स्थित ख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती की दरगाह दुनियाभर के सूफियों के लिए एक प्रमुख स्थल है। यहां लोग जियारत के लिए जाते हैं। ख्वाजा साहब का स्वर्गवास 1230 ईस्वी में हुआ था। 1141 ईस्वी में आपका जन्म ईरान के सजिस्तान में हुआ था। सन् 1195 ई. में आप मदीना से भारत आए थे।
 
तो यह थी इस्लाम धर्म के पवित्र स्थलों के बारे में जानकारी। दिव्य दर्शन में अगली बार हम मिलेंगे अन्य पवित्र स्थलों की जानकारी के साथ।