0

नयी पौध कैसे समझे परिवार का महत्व?

सोमवार,सितम्बर 7, 2020
0
1
"मैं और मेरे साथ भी मैं" वाला जो फंडा है वही इस जिंदगी का सबसे अहम रहस्य है। जिसने इसे समझ लिया उसने जीवन जी लिया। अपने जीवन के चौपन बरस इस फलसफे पर ही चले हैं। मेरे साथ मैं की जो परिभाषा है वो कुछ अलग है।
1
2
सामने बैठ कर मीठी बातें बोलने वाला और पीठ पीछे अपने कार्य का नुक़सान या निंदा करने वाला कोई पाखंडी मित्र हो तो उसे त्याग देना चाहिए क्योंकि वह विष से भरे हुए ऐसे घड़े के समान होता है जिसके मुख पर दूध लगा हो।
2
3
पिछ्ले दिनों एक्ट्रेस नीना गुप्ता ने अपने फेंस को चेतावनी के रूप में सलाह दी है कि वे शादीशुदा आदमी के प्यार में न पड़ें। मैंने इसके कारण अपनी जिंदगी में बहुत परेशानियां झेलीं हैं।
3
4
हर शख्स के जीवन में एक ही रिश्ता ऐसा होता है, जो वह अपनी मर्जी व अपने विवेक से चुनता है। और वो रिश्ता है दोस्ती का। एक सच्ची दोस्ती व एक सच्ची मित्रता बहुत मुश्किल से मिलती है। दोस्ती एक ऐसा रिश्ता है, जो हमें जन्म से नहीं मिलता तथा इसे हम खुद बनाते ...
4
4
5
बेबी की दोस्त अलका ने कान में जो टॉप्स पहने थे उसमें एक सफेद मोती चिपका था। वो बड़े जतन से उसे संभाल कर पहने थी। कहीं गिर न जाएं। बेबी ने पूछा ऐसे क्यों कर रही ? अलका ने बड़े प्यार और गर्व से बताया कि मेरी भाभी नेपाल से ये टॉप्स सच्चे मोती के लाई है। ...
5
6
आज व्यस्तता, तनाव व असमाधानी वृत्ति ने अधिकतर लोगों का सुख-चैन छीन रखा है। धन दौलत, महंगी कार, बड़े बंगले, पद, पहचान, प्रभाव व पैसा होने पर भी आत्मिक संतुष्टि, तृप्ति व समाधान का अभाव जीवन को नीरस बना रहा है।
6
7
किसी भी रिश्ते को समय देकर आपस में बातचीत करके इसमें आई गलतफहमी को दूर किया जा सकता है, उसे मजबूत बनाया जा सकता है। वहीं अगर रिश्तों में दरार आ जाए और आप एक-दूसरे से मिलकर उसे ठीक भी न कर पाएं तो पार्टनर की जुबान पर जो सबसे पहला नाम आता है, वो है ...
7
8
लॉक डाउन के दौरान सोशल मीडिया पर ही पूरा घर-बंद देश उमड़ पड़ा... क्योंकि बाकि बचे हुए तो जीने मरने, अपने देश-गांव की मिटटी में लौटने की, जान की परवाह किए बिना, भूखे-प्यासे अपने परिवारों के साथ संघर्ष कर रहे हैं। देश इन्हीं दो वर्गों में बंट गया।
8
8
9
वक्त है लॉकडाउन का और सभी लोग अपने-अपने घरों में कैद हैं। कहीं आना-जाना या किसी से मिलना-जुलना पूरी तरह से बंद है। लेकिन ऐसे लोग जो रिलेशनशिप में हैं और अपने पार्टनर से मिल भी नहीं पा रहे है, उनके लिए इस समय को बिताना थोड़ा और मुश्किलोंभरा हो सकता ...
9
10
इस समय खुद को खुश रखने के लिए मनोरंजन की बेहद जरूरत है। कोरोना का समय इसे एक परीक्षा का समय भी कहा जा सकता है और ऐसे समय में एक-दूसरे को सकारात्मक व खुश रखना बेहद जरूरी है। अब अगर हम चीन की बात करें तो चीन में तलाक की दर में उछाल देखा गया है, जो एक ...
10
11
एक वायरस ने पूरे विश्व मे हाहाकार कर रखा है। इस बीमारी की चपेट में आकर सब कुछ तबाही की ओर जा रहा है। जहां अर्थव्यवस्था डगमगा रही है वहीं सामाजिक भी।
11
12
चानी के बेटे किशु का आई.आई. टी. में सिलेक्शन हुआ। भुवनेश्वर का कोई कॉलेज मिला। चानी ने याद किया कि कोई अपना है क्या वहां। एकदम से खुश हो गई कि वहां तो उसकी एक बुआ है। और निश्चिंत हो गई ये सोच कर कि सोड़ी बुआ से इतना प्यार और लगाव रहा है तो वह जरूर ...
12
13
चाहे आप एक परिवार में हो या कपल हों, इस समय खुद को खुश रखने के साथ-साथ अपने रिश्तों को मजबूत करने की भी आवश्यकता है। यदि आपकी आपके पार्टनर के साथ लंबे समय से किसी बात को लेकर गलतफहमी हो गई है या दूरियां आ गई हैं, तो यही सही समय है अपने रिश्तों को ...
13
14
संस्कार, मर्यादा, सम्मान, समर्पण, आदर, अनुशासन आदि किसी भी सुखी-संपन्न एवं खुशहाल परिवार के गुण होते हैं। कोई भी व्यक्ति परिवार में ही जन्म लेता है, उसी से उसकी पहचान होती है
14
15
परिवार हमारी नींव में, आचरण में और फिर हमारे पूरे जीवन में झलकता और छलकता है। परिवार एक विचार है, सुरक्षा और जीवनशैली है। इसमें होने और रहने का एक तरीका है
15
16
हर साल 15 मई (15 May) को दुनिया भर में अंतरराष्ट्रीय परिवार दिवस मनाया जाता है। परिवार चाहे छोटा हो या बड़ा इसका महत्व तो किसी से छिपा नहीं है
16
17
हुआ यूं की घर में सेंव ख़त्म हो चुकी थी। मनीषा को थोड़ी ही सही पर सेंव की ‘फंक्की’ की तलब लगती थी। ये उसकी बचपन की आदत है। सभी जगह सेंव का स्टॉक लगभग ख़त्म हो चुका था। कहीं से किसी का भी आना-जाना संभव नहीं। और ये रास्ता राजा जी ने खोजा। मनीषा को ऑफिस ...
17
18
पूरा देश इस वक्त एक चुनौती का सामना कर रहा और वह है कोरोना। इस संक्रमण से बचने की पहली शर्त है सामाजिक दूरी और लॉकडाउन का पालन करना और खुद को अपने घर में रखना। लेकिन हर वक्त यह समझना कि लॉकडाउन है, हम घर में कैद हैं और यह एक कठिन समय है......
18
19
लॉकडाउन एक ऐसा समय है, जो सभी के लिए बेहद कठिन है। सभी अपने घरों में कैद हैं। लेकिन घर में रहकर भी अपने दोस्तों से मुलाकात, बर्थडे पार्टी, डांस क्लासेस आदि इन सभी एक्टिविटी में शामिल होकर इस लॉकडाउन में भी एंजॉय किया जा रहा है.....
19