'आत्मनिर्भर भारत' अभियान के नाम पर 50 करोड़ रुपए की ठगी, 500 बेरोजगारों को दिया रोजगार का झांसा

पुनः संशोधित शुक्रवार, 13 अगस्त 2021 (19:54 IST)
जींद। आत्मनिर्भर भारत के नाम पर बेरोजगारों को ट्रेडिंग सिखाकर देने तथा बेरोजगारों को क्रिप्टो मुद्रा में निवेश का झांसा देकर करोड़ों रुपए हड़पने के मामले में पुलिस ने 4 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। पुलिस ने इसकी जानकारी दी।
पुलिस ने बताया कि गुप्ता कॉलोनी निवासी श्रीकांत ने शिकायत दी कि गुजरात के रहने वाले हितेश उर्फ नील पटेल ने नवंबर 2020 में टि्वटर पर पोस्ट में कहा था कि वे लोगों को विदेशी मुद्रा प्रशिक्षण के साथ नौकरी देंगे।

शिकायत के हवाले से उन्होंने बताया कि उससे तीन माह के प्रशिक्षण शुल्क के रूप में 45 हजार रुपए लिए गए, शिकायतकर्ता से कहा गया था कि प्रशिक्षण के बाद उसे दो वर्ष के लिए नौकरी पर रखा जाएगा। प्रशिक्षण के दौरान आरोपित ने क्रिप्टो मुद्रा में निवेश करने के लिए कहा। जिस पर उसने भी चार लाख रुपए का निवेश किया।
ALSO READ:

भतीजी ने किया प्रेम विवाह, दो भाइयों पर पंचायत ने ठोंका 34 लाख जुर्माना!
पुलिस ने बताया कि इसके अलावा लगभग 500 लोगों ने क्रिप्टो करेंसी में निवेश किया। उसके द्वारा निवेश की गई राशि की कीमत 12 लाख रुपए बनती है, जबकि सभी निवेशकों की राशि की कीमत लगभग 50 करोड़ रुपए बनती है।
उन्होंने बताया कि चार माह के बाद उसके अलावा अन्य प्रशिक्षण लेने वालों ने राशि वापस मांगी तो उन्हें कहा जाने लगा कि आरबीआई ने भुगतान रोक दिया है, जबकि उन्होंने राशि भारतीय बैंकों में जमा करवाई थी।

पुलिस ने बताया कि धोखाधड़ी के इस खेल में केरल निवासी अलकेश, आरोपित हितेश उर्फ नील का पिता गोवर्धन भी शामिल है। शिकायत के बाद पुलिस ने तीनों आरोपियों के खिलाफ संबंधित धाराओं में मामला दर्ज किया है।(भाषा)



और भी पढ़ें :