व्यक्ति की असली संपदा उसका स्वास्थ्य है : कमिश्नर डॉ. भार्गव

पुनः संशोधित मंगलवार, 17 सितम्बर 2019 (21:29 IST)
रीवा। 'व्यक्ति की असली संपदा उसका स्वास्थ्य है। स्वास्थ्य को बनाए रखने में डॉक्टरों की अहम भूमिका होती है। आप भविष्य के हैं। इसलिए डॉक्टर होने के नाते अपने दायित्व का निर्वहन पूरी लगन, मेहनत और निष्ठा से करें। आप अपना पाठ्यक्रम पूरा करने के बाद डॉक्टर बनेंगे। जब कोई दु:ख, पीड़ा और परेशानी होती है तो लोग भगवान और डॉक्टर को याद करते हैं, इसलिए डॉक्टरों का फर्ज कि वे उनके प्रति सजग रहें। यह बात के ने कही। वे में व्हाइट कोट सेरेमनी कार्यक्रम में मुख्य अतिथि थे।
उन्होंने कहा कि MBBS के विद्यार्थियों को प्रेरित करते हुए कहा कि अपनी जिम्मेदारी के निर्वहन में किसी प्रकार की कोताही नहीं बरतें। अपना कार्य पूरी लगन, मेहनत और निष्ठा से करें। उन्होंने कहा कि जिंदगी गुलाब की तरह है और गुलाब में लगे हुए कांटे कठिनाइयों के प्रतीक हैं। आप सब कठिनाइयों, समस्याओं और परेशानियों से घबराए बिना अपनी मंजिल को प्राप्त करने की कोशिश करें। कामयाबी के रास्ते में चुनौतियां एवं संघर्ष मौजूद रहता है। बहुत मेहनत के बाद जो कामयाबी हमें मिलती है उसका कोई मूल्य नहीं होता है।
कमिश्नर डॉ. भार्गव ने कहा कि सफलता वही लोग प्राप्त करते हैं, जो कठिन परिस्थितियों में अपना श्रेष्ठतम प्रदर्शन करते हैं। उन्होंने कहा कि धन के पीछे भागने से अच्छा है कि अपने जीवन को मूल्यवान बनाएं। अपने आचार-विचार और आहार-विहार को अच्छा रखें। एक आदर्श डॉक्टर बनने की कोशिश करें। मरीजों को कोई असुविधा न होने दें। आपने जो कल्पना की थी उसे अपने व्यक्तित्व में उतारने की कोशिश करें और समाज के लिए अमूल्य संपदा के रूप में अपना श्रेष्ठतम योगदान प्रदान करें।
उन्होंने कहा कि समुद्र के किनारे लंगर से बंधा हुआ जहाज अपने आप को सुरक्षित महसूस करता है लेकिन इसमें उसकी सार्थकता नहीं है। सार्थकता इस बात में है कि हमेशा कर्म करो और आगे बढ़ो। कमिश्नर डॉ. भार्गव ने विभिन्न उदाहरणों एवं प्रसंगों के माध्यम से विद्यार्थियों को जीवन में आगे बढ़ने एवं सफलता प्राप्त करने की समझाइश दी। उन्होंने सांकेतिक रूप से एक छात्र एवं एक छात्रा को सफेद कोट पहनाया।
कार्यक्रम में अधिष्ठाता श्यामशाह चिकित्सा महाविद्यालय डॉ. पीसी द्विवेदी, संयुक्त संचालक एवं अधीक्षक डॉ. एपीएस गहरवार, कोऑर्डिनेटर चिकित्सा शिक्षा डॉ. पीके लखटकिया, डॉ. पीजी खानवलकर सहित अन्य डॉक्टर उपस्थित थे।

 

और भी पढ़ें :