मुंबई में अर्नब गोस्वामी गिरफ्तार, भाजपा को याद आया आपातकाल

Last Updated: बुधवार, 4 नवंबर 2020 (12:06 IST)
मुंबई/ नई दिल्ली। 'रिपब्लिक टीवी' के प्रधान संपादक अर्नब गोस्वामी की गिरफ्तारी पर प्रतिक्रिया देते हुए सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बुधवार को कहा कि यह महाराष्ट्र में प्रेस की स्वतंत्रता पर हमला है और इससे के दिनों की याद आती है।
एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि गोस्वामी को 53 वर्षीय एक इंटीरियर डिजाइनर को आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोप में बुधवार को गिरफ्तार किया गया।
ALSO READ:
अर्नब की लड़ाई मीडिया की आज़ादी की लड़ाई नहीं है!
जावड़ेकर ने ट्वीट किया कि महाराष्ट्र में प्रेस की स्वतंत्रता पर हमले की हम निंदा करते हैं। प्रेस के साथ पेश आने का यह तरीका नहीं है। इससे आपातकाल के दिनों की याद आती है, जब प्रेस के साथ इस प्रकार का व्यवहार किया जाता था।

एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया ने बुधवार को रिपब्लिक टीवी के प्रधान संपादक अर्नब गोस्वामी की ‘अचानक’ गिरफ्तारी की निंदा की और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से मांग की कि गोस्वामी के साथ निष्पक्ष व्यवहार किया जाए और मीडिया की आलोचनात्मक रिपोर्टिंग के खिलाफ सरकारी ताकत का इस्तेमाल नहीं किया जाए।
विधि मंत्री और वरिष्ठ भाजपा नेता रविशंकर प्रसाद ने बुधवार को रिपब्लिक टीवी के प्रधान संपादक अर्नब गोस्वामी की गिरफ्तारी को ‘गंभीर रूप से निंदनीय, अनुचित और चिंताजनक’ करार दिया।

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने पत्रकार अर्नब गोस्वामी की गिरफ्तारी की निंदा की है। उन्होंने कहा कि स्वतंत्र प्रेस के लोग अगर उनका समर्थन नहीं करते हैं तो वे रणनीतिक रूप से फासीवाद के समर्थन में हैं।
अलीबाग पुलिस के एक दल ने मुंबई स्थित गोस्वामी के आवास से उन्हें गिरफ्तार किया। गोस्वामी को पुलिस वैन में धकेले जाते हुए देखा गया और उन्होंने दावा किया कि पुलिस ने उनके साथ बदसलूकी की। (भाषा)



और भी पढ़ें :