1. समाचार
  2. मुख्य ख़बरें
  3. प्रादेशिक
  4. Amit Shah told the meaning of ABCD of SP
Written By Author हिमा अग्रवाल
Last Updated: मंगलवार, 28 दिसंबर 2021 (22:48 IST)

अमित शाह ने बताया सपा की ABCD का अर्थ, विपक्ष पर जमकर साधा निशाना

उत्तर प्रदेश के हरदोई में मंगलवार को केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह विपक्ष पर जमकर बरसे। उन्होंने कहा कि विरोधी चित होंगे और भाजपा 2022 विधानसभा चुनाव मैं 300 प्लस सीटें लेकर आएगी। भाजपा शहर-शहर जनविश्वास यात्रा निकाल रही है, उसी यात्रा के दौरान एक रैली में अमित पहुंचे थे।

अमित शाह के निशाने पर समाजवादी पार्टी, कांग्रेस और बहुजन समाजवादी पार्टी रहीं। उन्होंने भाषण के दौरान भाजपा सरकार के कार्यकाल की उपलब्धियों को बताया और कहा कि 2019 में उत्तर प्रदेश की जनता ने मोदी जी को पूर्ण बहुमत दिया, आपके विश्वास पर खरा उतरते हुए मोदी जी ने 5 अगस्त को राम मंदिर का शिलान्यास करने का काम समाप्त कर दिया।

उन्होंने कहा कि सपा, बसपा और कांग्रेस ने बहुत अटकलें लगाईं, काम रोकने का प्रयास किया, लेकिन वह सफल नहीं हो सके। जिन लोगों ने रोकने का प्रयास किया उन्हें मैं कहने आया हूं कि वह जितनी भी ताकत लगा लें, रोक सके तो रोक लें, लेकिन कुछ हासिल नही होने वाला है। कुछ ही दिनों मे रामनारायण का आसमान छूने वाला भव्य मंदिर बनकर तैयार हो जाएगा।
शाह ने कहा कि भाजपा जो कहती है, वह करती है। लेकिन समाजवादी पार्टी की एबीसीडी ही उल्टी है, यहां A मतलब है अपराध और आतंक, B से मतलब है भाई भतीजावाद, C का मतलब है करप्शन और D से मतलब है दंगा है।

भाजपा ने ये पूरी ABCD पर पानी फेरने का काम किया है। खराब मौसम के बावजूद भीड़ केन्द्रीय गृहमंत्री को सुनने के लिए डटी रही। वहीं मोदी-योगी के गीत पर लोग नाचते नजर आए।

संकटमोचन मंदिर में किए दर्शन : भाजपा के कार्यकर्ताओं को जीत का मूल मंत्र देने के लिए अमित शाह वाराणसी दो दिवसीय प्रवाह दौरे पर पहुंचे है। 2017 के यूपी विधानसभा जीत का सेहरा अमित शाह के सिर बंधा था, वही करिश्मा वह 2022 के चुनावों में दोहराना चाहते है, जिसके चलते वह काशी प्रांत के पार्टी पदाधिकारियों के साथ महत्वपूर्ण बैठक करेंगे। 
 
अमित शाह ने वाराणसी में बैठक करने से पहले संकट मोचन बजरंगबली के मंदिर में माथा टेका और महंत प्रो. मिश्र ने आशीर्वाद स्वरूप माला व प्रसाद ग्रहण किया।लगभग 10 मिनट वह मंदिर में रहे उसके बाद वह सीधा सर्किट हाउस पहुंचे जहां पर वह आगामी 2022 चुनाव की जीत का मूल मंत्र कांशी प्रांत के पदाधिकारियों को देंगे। बैठक में शामिल होने वाले सभी कार्यकर्ता अमित शाह की कार्यशैली को समझते है, वह जानते है कि वह किसी भी पदाधिकारियों को खड़ा कर कुछ भी जानकारी मांग सकते है, जिसके चलते सभी पदाधिकारी पूरा होमवर्क करके बैठक में शामिल हुए है। 
 
वही अमित शाह को लगातार खबरें मिल रही थी, कि ब्राह्मण भाजपा से नाराज है। ब्राह्मणों की नाराजगी को दूर करने के लिए केंद्रीय गृहमंत्री के साथ यूपी के डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा मौजूद है। अमित शाह का यह दो दिवसीय प्रवास है, जिसमें वह सर्किट हाउस के साथ बाबतपुर एयरपोर्ट और गोकुलधाम में भी बैठक करके चुनावी रणनीति तैयार करेंगे। रात में बैठकों के दौर के बाद वाराणसी में सुबह का स्वागत वह काशी विश्वनाथ मंदिर के दर्शन करके करेंगे।
 
माना जा रहा है कि शाह बैठक में विधायकों, मंत्रियों और पदाधिकारियों के चर्चा करते हुए सहयोगी दलों के विषय में भी विस्तार से चर्चा करेंगे। सुहेलदेव, ओम प्रकाश राजभर भारतीय समाज पार्टी, अपना दल की पल्लवी पटेल जैसे नेता बीजेपी को नुकसान पहुंचा सकते है, भारतीय जनता पार्टी को आगामी चुनाव में नुकसान न सहना पड़े इसके लिए अमित शाह चुनावी जमीन तैयार करने में जुटें हुए है।
ये भी पढ़ें
UP में 'जन विश्वास यात्रा' में भिड़े BJP नेता, मंच पर जमकर चले लात-घूंसे