0

16 जून को स्कन्द षष्ठी : जानिए शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, महत्व और कथा

सोमवार,जून 14, 2021
0
1
हिन्दू धर्मग्रंथों के अनुसार अमावस्या के बाद आने वाली शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को विनायक चतुर्थी कहते हैं। इस बार विनायक चतुर्थी 14 जून 2021
1
2
चतुर्थी की तिथि भगवान श्री गणेश की तिथि है। इस बार विनायक चतुर्थी 14 जून 2021 को मनाई जाएगी। आइए जानते हैं भगवान गणेश की पूजा विधि और शुभ मुहूर्त-
2
3
वाल्मीकि रामायण के अनुसार विश्व विजय करने के लिए जब रावण स्वर्ग लोक पहुंचा तो उसे वहां रंभा नाम की अप्सरा दिखाई दी। कामातुर होकर उसने रंभा को पकड़ लिया।
3
4
हिन्दू पंचांग के अनुसार रंभा तीज व्रत ज्येष्ठ शुक्ल तृतीया को किया जाता है। इस वर्ष यह व्रत 13 जून 2021, रविवार को रखा जाएगा। विवाहित महिलाएं अपने सुहाग की लंबी उम्र और बुद्धिमान संतान पाने के लिए यह व्रत रखती है जबकि कुंआरी कन्याएं यह व्रत अच्छे वर ...
4
4
5
हिन्दू धर्मग्रंथों के अनुसार रंभा तीज व्रत (रम्भा तृतीया व्रत) शीघ्र फलदायी माना जाता है। रंभा तृतीया व्रत ज्येष्ठ शुक्ल तृतीया को किया जाता है। इस दिन विवाहित महिलाएं अपने सुहाग की लंबी उम्र,
5
6
महेश नवमी माहेश्वरी समाज का प्रमुख पर्व है। ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को यह पर्व मनाया जाता है। माहेश्वरी समाज की उत्पति भगवान शिव के वरदान से इसी दिन हुई।
6
7
ओडिशा के पुरी में 21 दिन चलने वाली चंदन यात्रा नरेंद्र सरोवर से पहले ही शुरू हो गई है। इसी के साथ जगन्नाथ रथयात्रा के लिए रथों का निर्माण भी पूरे विधि-विधान के साथ 10 दिन पूर्व ही शुरू हो गया है, जो अभी तक चल रहा है। कोरोना वायरस के कारण लॉकडाउन के ...
7
8
मां धूमावती का प्रकटोत्सव ज्येष्ठ मास की शुक्ल पक्ष की अष्टमी को है। अग्रेजी कैलेंडर के अनुसार यह जयंती 18 जून 2021 शुक्रवार को मनाई जाएगी। माता धूमावती 10 महाविद्याओं में से एक सातवीं उग्र शक्ति हैं। आओ जानते हैं इनके प्रकटोत्सव की कथा और पूजा पर्व ...
8
8
9
समुद्र किनारे बसे पुरी नगर में होने वाली जगन्नाथ रथयात्रा उत्सव के समय आस्था और विश्वास का जो भव्य वैभव और विराट प्रदर्शन देखने को मिलता है, वह दुनिया में और कहीं दुर्लभ है। कोरोना वायरस के कारण लॉकडाउन के चलते पिछले साल भक्त के बगैर की जगन्नाथ ...
9
10
प्रत्येक माह में 2 चतुर्दशी और वर्ष में 24 चतुर्दशी होती है। चतुर्दशी को चौदस भी कहते हैं। चतुर्दशी तिथि रिक्ता संज्ञक है एवं इसे क्रूरा भी कहते हैं। यह उग्रता देने वाली तिथि हैं। इसीलिए इसमें समस्त शुभ कार्य वर्जित है। इस बार ज्येष्ठ माह की कृष्ण ...
10
11
प्राय: भगवान को अर्पित की जाने वाली हर चीज का फल भी अलग-अलग प्राप्त होता है। शिवपुराण में इस बात का वर्णन मिलता है कि चतुर्दशी तिथि के देवता भगवान शिव है
11
12
इस बार सोम प्रदोष व्रत 7 जून 2021, सोमवार को पड़ रहा है। प्रदोष व्रत की पूजा अगर प्रदोष काल यानी गोधूली बेला (शाम के समय) में की जाए तो अधिक शुभ फलदायी होती है।
12
13
इस बार ज्येष्ठ मास के कृष्‍ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि का प्रदोष व्रत 7 जून 2021 दिन सोमवार को पड़ रहा है। सोमवार को प्रदोष होने के कारण इसे सोम प्रदोष कहते हैं। प्रदोष व्रत भगवान शिव को समर्पित होता है। इसमें भी यदि सोमवार को प्रदोष व्रत रहता है तो वह ...
13
14
मंगलवार से जून माह शुरू हो गया है। आइए जानते हैं इस महीने आने वाले खास व्रत-त्योहार के संबंध में जानकारी यहां पढ़ें-
14
15
हिंदू धर्म में प्रकृति के सभी तत्वों की पूजा, प्रार्थना का प्रचलन और महत्व है, क्योंकि हिंदू धर्म मानता हैं कि प्रकृति से ही हमारा जीवन संचालित होता है। इसीलिए प्रकृति को देवता, भगवान और पितृदेव माना गया है। हिन्दू संस्कृति के अधिकतर तीज त्योहार और ...
15
16
उत्तर प्रदेश में ज्येष्ठ मास के पहले मंगल को बड़ा मंगलवार मानते हैं। हालांकि इस माह के सभी मंगल को बड़ा मंगल ही मानते हैं। ज्येष्ठ माह के सभी मंगलवार को हनुमानजी की पूजा का महत्व बड़ जाता है। इस माह हनुमानजी का दर्जा श्रीराम से भी बड़ा माना जाता है। ...
16
17
हिन्दू पंचांग के अनुसार ज्येष्ठ माह कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को एकदंत संकष्टी चतुर्थी कहा जाता है। इस वर्ष यह चतुर्थी शनिवार, 29 मई 2021 को मनाई जा रही है।
17
18
स्कंद पुराण के रेवाखंड में भगवान श्री सत्यनारायण की कथा का उल्लेख किया गया है। यह कथा सभी प्रकार के मनोरथ पूर्ण करने वाली, अनेक दृष्टि से अपनी उपयोगिता सिद्ध करती है।
18
19
पौराणिक शास्त्रों में पूर्णिमा तिथि का बहुत अधिक महत्व माना गया है। वैशाख पूर्णिमा के दिन ही भगवान श्री विष्णु के नौवें अवतार भगवान बुद्ध का जन्म हुआ था।
19