नृसिंह जयंती : जानिए शुभ मुहूर्त, कथा, मंत्र और पूजा विधि

2022

प्रतिवर्ष वैशाख महीने (2022) के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि को जयंती (Narasimha Jayanti) व्रत किया जाता है। इस वर्ष यह पर्व शनिवार, 14 मई को मनाया जा रहा है। यह दिन भगवान नृसिंह के जयंती रूप में बड़े ही धूमधाम के साथ मनाया जाता है।

पौराणिक मान्यता एवं पुराणों के अनुसार इसी दिन भगवान श्री नृसिंह ने खंभे को चीरकर भक्त प्रह्लाद की रक्षार्थ अवतार लिया था। इस पवित्र दिन को ही भक्त प्रह्लाद की रक्षा करने के लिए भगवान श्रीहरि विष्णु ने नृसिंह रूप में अवतार धारण किया था तथा अपने परम भक्त प्रह्लाद की रक्षा की थी। इसी कारण यह दिन बहुत ही खास माना जाता है।

आइए जानिए नरसिंह जयंती (Narasimha Jayanti 2022) के दिन कैसे करें पूजन, मंत्र, कथा और पूजन के शुभ मुहूर्त-

नृसिंह या नरसिंह जयंती के शुभ मुहूर्त-Narasimha Jayanti 2022

14 मई 2022, दिन शनिवार।

वैशाख शुक्ल चतुर्दशी तिथि का प्रारंभ- 14 मई को 03.22 पीएम से शुरू।
चतुर्दशी तिथि का समापन- 15 मई 2022 को 12.45 पीएम पर।
नृसिंह जयंती संकल्प का समय (मध्याह्न में)- 10.56 एएम से 01.39 पीएम तक।
सायंकाल पूजन का समय- 14 मई को 04.22 पीएम से 07.04 पीएम तक।
कुल अवधि- 02 घंटे 43 मिनट।
पारण समय- 15 मई को 12.45 पीएम के बाद।

Lord Narsingh Story- नृसिंह अवतार की कथा के अनुसार जब हिरण्याक्ष का वध हुआ तो उसका भाई हिरण्यकशिपु (Hiranyakashipu) बहुत दुःखी हुआ। वह भगवान का घोर विरोधी बन गया। उसने अजेय बनने की भावना से कठोर तप किया। तप का फल उसे देवता, मनुष्य या पशु आदि से न मरने के वरदान के रूप में मिला। वरदान पाकर तो वह मानो अजेय हो गया।

हिरण्यकशिपु का शासन बहुत कठोर था। देव-दानव सभी उसके चरणों की वंदना में रत रहते थे। भगवान की पूजा करने वालों को वह कठोर दंड देता था और वह उन सभी से अपनी पूजा करवाता था। उसके शासन से सब लोक और लोकपाल घबरा गए। कहीं ओर कोई सहारा न पाकर वे भगवान की प्रार्थना करने लगे। देवताओं की स्तुति से प्रसन्न होकर भगवान नारायण ने हिरण्यकशिपु के वध का आश्वासन दिया।
उधर दैत्यराज का अत्याचार दिनोंदिन बढ़ता ही जा रहा था। यहां तक कि वह अपने ही पुत्र प्रहलाद को भगवान का नाम लेने के कारण तरह-तरह का कष्ट देने लगा। प्रहलाद बचपन से ही खेल-कूद छोड़कर भगवान के ध्यान में तन्मय हो जाया करता था। वह भगवान का परम भक्त था। वह समय-समय पर असुर-बालकों को धर्म का उपदेश भी देता रहता था।

असुर-बालकों को धर्म उपदेश की बात सुनकर हिरण्यकशिपु बहुत क्रोधित हुआ। उसने प्रहलाद को दरबार में बुलाया। प्रहलाद बड़ी नम्रता से दैत्यराज के सामने खड़ा हो गया। उसे देखकर दैत्यराज ने डांटते हुए कहा- 'मूर्ख! तू बड़ा उद्दंड हो गया है। तूने किसके बल पर मेरी आज्ञा के विरुद्ध काम किया है?'

इस पर प्रहलाद ने कहा- 'पिताजी! ब्रह्मा से लेकर तिनके तक सब छोटे-बड़े, चर-अचर जीवों को भगवान ने ही अपने वश में कर रखा है। वह परमेश्वर ही अपनी शक्तियों द्वारा इस विश्व की रचना, रक्षा और संहार करते हैं। आप अपना यह भाव छोड़ अपने मनको सबके प्रति उदार बनाइए।'

प्रहलाद की बात को सुनकर हिरण्यकशिपु का शरीर क्रोध के मारे थर-थर कांपने लगा। उसने प्रहलाद से कहा- 'रे मंदबुद्धि! यदि तेरा भगवान हर जगह है तो बता इस खंभे में क्यों नहीं दिखता?' यह कहकर क्रोध से तमतमाया हुआ वह स्वयं तलवार लेकर सिंहासन से कूद पड़ा। उसने बड़े जोर से उस खंभे को एक घूंसा मारा। उसी समय उस खंभे के भीतर से नृसिंह भगवान प्रकट हुए। उनका आधा शरीर सिंह का और आधा मनुष्य के रूप में था। क्षणमात्र में ही नृसिंह भगवान ने हिरण्यकशिपु को अपने जांघों पर लेते हुए उसके सीने को अपने नाखूनों से फाड़ दिया और उसकी जीवन-लीला समाप्त कर अपने प्रिय भक्त प्रहलाद की रक्षा की।

भगवान नृसिंह के बीज मंत्र-Narasimha Jayanti Mantra


- ॐ श्री लक्ष्मीनृसिंहाय नम:।

- बीज मंत्र- 'श्रौं'/ क्ष्रौं (नृसिंहबीज)।

- ध्याये न्नृसिंहं तरुणार्कनेत्रं सिताम्बुजातं ज्वलिताग्रिवक्त्रम्।
अनादिमध्यान्तमजं पुराणं परात्परेशं जगतां निधानम्।।

- ॐ उग्रं वीरं महाविष्णुं ज्वलन्तं सर्वतोमुखम्।
नृसिंहं भीषणं भद्रं मृत्यु मृत्युं नमाम्यहम्॥
- नृम नृम नृम नर सिंहाय नमः।

पूजन विधि-Puja VIdhi

- नृसिंह जयंती व्रत के दिन व्रतधारी प्रातः ब्रह्म मुहूर्त में सोकर उठें।
- संपूर्ण घर की साफ-सफाई करें।
- इसके बाद गंगा जल या गौमूत्र का छिड़काव कर पूरा घर पवित्र करें।
- तत्पश्चात निम्न मंत्र बोले-
नृसिंह देवदेवेश तव जन्मदिने शुभे।
उपवासं करिष्यामि सर्वभोगविवर्जितः॥
- इस मंत्र के साथ दोपहर के समय क्रमशः तिल, गोमूत्र, मृत्तिका और आंवला मल कर पृथक-पृथक चार बार स्नान करें।
- इसके बाद शुद्ध जल से स्नान करना चाहिए।
- पूजा के स्थान को गोबर से लीपकर तथा कलश में तांबा इत्यादि डालकर उसमें अष्टदल कमल बनाना चाहिए।
- अष्टदल कमल पर सिंह, भगवान नृसिंह तथा लक्ष्मीजी की मूर्ति स्थापित करना चाहिए।
- तत्पश्चात वेदमंत्रों से इनकी प्राण-प्रतिष्ठा कर षोडशोपचार से पूजन करना चाहिए।
- इस दिन व्रती को दिनभर उपवास रहना चाहिए।
- ब्रह्मचर्य का पालन करें।
- अपने सामर्थ्य के अनुसार भू, गौ, तिल, स्वर्ण तथा वस्त्रादि का दान देना चाहिए।
- क्रोध, लोभ, मोह, झूठ, कुसंग तथा पापाचार का त्याग करना चाहिए।
- रात्रि में गायन, वादन, पुराण श्रवण या हरि संकीर्तन से जागरण करें।
- दूसरे दिन फिर पूजन कर ब्राह्मणों को भोजन कराएं।



और भी पढ़ें :