आखिर क्यों भारतीय शेयर बाजार पहुंचा 52 हजार के पार...

नृपेंद्र गुप्ता| Last Updated: मंगलवार, 16 फ़रवरी 2021 (18:13 IST)
मुंबई। भारतीय शेयर बाजारों के पिछले 11 माह के प्रदर्शन पर नजर डाली जाएं तो आंकड़े देख आपकी नजरें चौधियां जाएगी। पिछले मार्च 2020 के बाद के और के निफ्टी ने अपनी तेज चाल से सभी को हैरान कर दिया। इन 11 माह में दोनों में दोगुने से भी ज्यादा उछाल देखा गया। 23 मार्च 2020 को सेंसेक्स 25981 अंक पर बंद हुआ था। यह वह समय था जब देश लॉकडाउन की ओर बढ़ रहा था।

इसके बाद सेंसेक्स ने फिर तेज चाल पकड़ी और देखते ही देखते 16 फरवरी की सुबह यह 52400 के पार पहुंच गया। यह सेंसेक्स का सर्वोच्च स्तर है। हालांकि दिन के अंत में यह 52104 पर बंद हुआ। सेंसेक्स की तरह ही निफ्टी भी इन 11 महीनों में खूब चहका। दूसरी ओर 23 मार्च को निफ्टी भी 7,743 अंकों पर था, यह आज सुबह 15404 अंकों पर पहुंच गया और 15318 पर बंद हुआ।
1 फरवरी को निर्मला सीतारमण द्वारा पेश किए गए बजट के बाद तो भारतीय शेयर बाजारों की मानों चाल ही बदल गई। मात्र 15 दिनों में इसमें 5868 अंकों की बढ़त दिखाई दी। दूसरी ओर निफ्टी में भी एक पखवाड़े में 1770 अंकों की बढ़त दर्ज की गई।

क्या है इस तेजी का कारण : भारत सरकार की लिबरल नीतियां, आर्थिक पैकेज, अमेरिका में बिडेन सरकार का बनना, कोरोना काल में दुनिया भर से अर्थव्यवस्था के सुधरने के संकेत मिलने और लॉकडाउन के बाद अचानक डिमांड बढ़ने से भारतीय में जमकर तेजी आई।
ये सेक्टर रहे फायदे में : शेयर बाजार विशषज्ञ योगेश बागौरा के अनुसार, फार्मा सेक्टर, डिफेंस सेक्टर, ऑटो सेक्टर, आईटी जैसे सैक्टरों ने निवेशकों को जहां अपने प्रदर्शन के दम पर जबरदस्त रिटर्न दिए। वहीं कुछ सेक्टरों को सरकार पैकेज के सहारे मजबूती मिली। इनमें पहला नाम बैंकिंग सेक्टर का है। इसके सरकारी मदद के बल पर बैंकिंग सेक्टर ने निवेशकों को अच्छा रिटर्न दिया।

स्टील, एल्यूमीनियम और अन्य मेटल में तेजी से निफ्टी मेटल इंडेक्स 28 महीने के सबसे ऊंचे स्तर पर पहुंचा आइल, रिअल एस्टेट जैसे सेक्टर भी नुकसान में नहीं रहे। लॉकडाउन में आइडिया का शेयर घटकर 4 रुपए पर आ गया था यह अभी 12.5 पर है।

इन लोगों को हुआ नुकसान : शेयर बाजार में आई तेजी के बाद भी कई नौसिखिए नुकसान में रहे। जिन लोगों ने भी संयम और सतर्कता के साथ निवेश किया उन्हें इसका जमकर फायदा मिला। वहीं जिन लोगों ने मंदी पर पैसा लगाया उन्हें भारी नुकसान हुआ।

निफ्टी 15600 और 56800 तक जा सकता है : बागौरा के अनुसार, सेंसेक्स और निफ्टी में अभी मजबूती के संकेत दिखाई दे रहे हैं। सेंसेक्स 56800 और निफ्टी 15600 तक जा सकता है। इसके बाद दोनों में कुछ करेक्शन दिखाई दे सकते हैं।
बहरहाल फिलहाल बाजार अपने सर्वोच्चर स्तर पर है। इस स्थिति में लोगों को अतिरिक्त सावधानी के साथ निवेश करना चाहिए। जरा सी लापरवाही उन्हें आर्थिक रूप से संकट में डाल सकती है।



और भी पढ़ें :