कश्मीर में आतंकियों के मददगार बने पत्थरबाज, मुठभेड़ में डाला रोड़ा

सुरेश एस डुग्गर| पुनः संशोधित बुधवार, 30 दिसंबर 2020 (15:00 IST)
जम्मू। पत्थरबाजों द्वारा मुठभेड़स्थल पर पत्थरबाजी कर अभियान में रोड़ा अटकाए जाने के बावजूद भी श्रीनगर के लावापोरा इलाके में आतंकियों और सुरक्षा बलों के बीच चली मुठभेड़ में तीन आतंकियों को मार गिराया गया।
मंगलवार को शुरू हुए इस ऑपरेशन को सुरक्षा बलों की संयुक्त टीम ने अंजाम दिया था। उधर, मुठभेड़स्थल के पास पत्थरबाजी कर रहे युवाओं को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे गए। हाथों में आईएस के झंडे भी लिए हुए थे।

मध्य के जिला श्रीनगर के होकारसर इलाके में करीब 16 घंटे तक चली मुठभेड़ के बाद सुरक्षाबलों ने मकान में छिपे तीनों आतंकवादियों को ढेर कर दिया।
आईजी कश्मीर विजय कुमार ने तीनों आतंकियों के मारे जाने की पुष्टि की है। मंगलवार रात से जारी इस मुठभेड़ में मारे जाने वाले तीन आतंकवादियों में लश्कर-ए-तैयबा के टॉप कमांडर यूसुफ कांतुर के शामिल होने की भी बात कही जा रही है। यह भी बताया जा रहा है कि जिला बडगाम में काफी सालों से सक्रिय युसूफ गत मंगलवार को होकारसर में युवाओं को आतंकी संगठन में शामिल करने के लिए आया था।
हालांकि पुलिस ने इस संबंध में अधिकारिक तौर पर पुष्टि नहीं की है। उनका कहना है कि तीनों आतंकवादियों की अभी पहचान नहीं हो पाई है।
मुठभेड़ स्थल से तीनों आतंकवादियों के शव बरामद कर लिए गए हैं जबकि काफी मात्रा में हथियार व गोला-बारूद भी बरामद हुआ है।
पुलिस का कहना है कि मुठभेड़ के दौरान दो से तीन बार आतंकवादियों को आत्मसमर्पण करने का मौका दिया गया परंतु उन्होंने इससे इंकार कर दिया। मुठभेड़ में बाधा डालने के लिए कुछ राष्ट्रविरोधी तत्वों ने सुरक्षाबलों पर पथराव भी किया परंतु इन सभी बाधाओं को आसानी से पार करते हुए सुरक्षाबलों ने तीनों आतंकियों को ढेर कर दिया। सुरक्षाबलों ने अभी भी इलाके में सर्च ऑपरेशन चलाया हुआ है।




और भी पढ़ें :