जामिया में सफूरा जरगर की एंट्री पर इसलिए लगाया प्रतिबंध, पहले हुईं थी गिरफ्तार

Safoora jargar
Last Updated: शनिवार, 17 सितम्बर 2022 (15:34 IST)
हमें फॉलो करें
अपने बयानों और प्रदर्शनों के लिए खबरों में रहने वाली सफूरा जरगर पर अब जामिया मिलिया यूनिवर्सिटी में एंट्री पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। यूनिवर्सिटी ने कुछ दिन पहले ही डिजर्टेशन जमा नहीं करने के आधार पर सफूरा का एमफिल में एडमिशन कैंसिल कर दिया था।

एमफिल में एडमिशन कैंसिल होने के बाद सफूरा और अन्य जामिया स्टूडेंट्स प्रदर्शन कर रहे थे। प्रदर्शनकारी स्टूडेंट्स का कहना था कि को एमफिल में एडमिशन दिया जाए और उन्हें अपनी थिसिसि जमा करने के लिए अतिरिक्त समय भी मिले।

ने अपने आदेश में कहा कि सफूरा द्वारा प्रदर्शनों का आयोजन किया गया, जिसके चलते उन पर कैंपस में आने पर बैन लगाया गया है। आदेश में कहा गया, ‘ये देखा गया है कि सफूरा जरगर कुछ बाहरी स्टूडेंट्स के साथ शांतिपूर्ण शैक्षणिक माहौल को बिगाड़ने के लिए अप्रासंगिक और आपत्तिजनक मुद्दों के खिलाफ कैंपस में आंदोलन, विरोध और मार्च आयोजित करने में शामिल रही हैं। वह यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट्स को उकसा रही हैं और कुछ अन्य स्टूडेंट्स के साथ अपने राजनीतिक एजेंडे के लिए यूनिवर्सिटी का इस्तेमाल करने की कोशिश कर रही हैं’

यूनिवर्सिटी ने आगे कहा, ‘इसके अलावा, सफूरा जरगर संस्थान के सामान्य कामकाज में बाधा डाल रही है। इस मामले को ध्यान में रखते हुए सक्षम प्राधिकारी ने कैंपस में शांतिपूर्ण शैक्षणिक वातावरण बनाए रखने के लिए पूर्व स्टूडेंट सफूरा जरगर के तत्काल प्रभाव से कैंपस में आने पर बैन लगा दिया है’

सफूरा जरगर को दिल्ली दंगों के सिलसिले में अप्रैल 2020 में गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम (UAPA) के तहत गिरफ्तार किया गया था। हालांकि, सफूरा को मानवीय आधार पर जून 2020 में जमानत दी गई थी, क्योंकि वह उस समय गर्भवती थी।



और भी पढ़ें :