पीएनबी घोटाला : 17 स्थानों पर छापे, 5100 करोड़ की संपत्ति जब्त

पुनः संशोधित गुरुवार, 15 फ़रवरी 2018 (23:44 IST)
नई दिल्ली/मुंबई। सार्वजनिक क्षेत्र के (पीएनबी) की मुंबई स्थित एक शाखा में 11,400 करोड़ रुपए से ज्यादा (177.17 करोड़ डॉलर) के धोखाधड़ी वाले लेनदेन के सिलसिले में ने गुरुवार को मुख्य आरोपी नीरव मोदी के कार्यालय और घर समेत 17 स्थानों पर छापेमारी कर 5,100 करोड़ रुपए की की।

इस मामले में बैंक के 10 अधिकारियों को निलंबित किया गया, जबकि दो कर्मचारियों के खिलाफ प्राथमिकी भी दर्ज कराई गई है। इस घोटाले को लेकर सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच राजनीति भी शुरू हो गई है। दोनों एक-दूसरे पर जमकर आरोप-प्रत्यारोप लगाए।

कांग्रेस ने इस घोटाले के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा तो भारतीय जनता पार्टी ने कांग्रेस के आरोपों को बेबुनियाद बताते हुए कहा कि इस मामले में दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। प्रवर्तन निदेशालय ने नीरव मोदी और गीतांजिल जेम्स के 17 परिसरों पर छापेमारे की कार्रवाई करते हुए 5,100 करोड़ रुपए का सोना, हीरा और जवाहरात जब्त किए हैं। सुबह राजधानी दिल्ली, मुंबई, सूरत और कई स्थानों पर छापेमारी की कार्रवाई शुरू की गई, जो शाम तक चलती रही।

नीरव मोदी के कुर्ला स्थित आवास के साथ ही काला घोड़ा स्थित ज्वेलरी बुटिक, बांद्रा और लोवर पार्ले स्थिति तीन ठिकानों के साथ ही सूरत में तीन स्थानों और राजधानी दिल्ली के चाणक्यपुरी और डिफेंस कॉलोनी स्थित शोरूम में भी छापे मारे।

अधिकारियों का कहना है कि तलाशी अभियान अगले कुछ दिनों तक जारी रहने की संभावना है, क्योंकि उन्हें इस घोटाले से जुड़े दस्तावेजों की तलाश है। निदेशालय को आशंका है कि नीरव मोदी ने बैंकिंग तंत्र के साथ मिलकर विदेशों में हवाला का काम किया है और आयात के कागजात दिखाए हैं। निदेशालय इसकी भी जांच कर रहा है। केन्द्रीय जांच ब्यूरो ने भी नीरव मोदी और अन्य के खिलाफ की कार्रवाई के आधार पर हवाला का मामला दर्ज किया है। (वार्ता)



और भी पढ़ें :