दिल्ली के अस्पताल में 'मलयालम' बोलने पर बवाल, सरकार की नाराजगी से आदेश वापस

Last Updated: रविवार, 6 जून 2021 (14:58 IST)
नई दिल्ली। दिल्ली के एक सरकारी अस्पताल ने शनिवार को एक परिपत्र जारी करके अपने नर्सिंग कर्मियों को काम के दौरान भाषा का इस्तेमाल नहीं करने को कहा। मामले पर बवाल मच गया और सरकार ने अस्पताल को आदेश वापस लेने को कहा है।
अस्पताल ने एक दिन पहले जारी अपने उस विवादास्पद आदेश को वापस ले लिया है।

दिल्ली सरकार की ओर से इस तरह का आदेश जारी करने के लिए के एमएस को नोटिस भी जारी किया गया है। अस्पताल के एमएस से नोटिस जारी कर यह पूछा गया है कि इस तरह का आदेश कैसे जारी किया गया?
उल्लेखनीय है कि अस्पताल द्वारा जारी परिपत्र में नर्सों से कहा गया है कि वे संवाद के लिए केवल हिंदी और अंग्रेजी का उपयोग करें या ‘कड़ी कार्रवाई’ का सामना करने के लिए तैयार रहें। अस्पताल प्रशासन को मिली शिकायत में यह कहा गया था कि नर्सिंग स्टाफ अपनी लोकल भाषा मलयालम में बात करते हैं।

जीबी पंत नर्सेज एसोसिएशन अध्यक्ष लीलाधर रामचंदानी ने दावा किया कि यह एक मरीज द्वारा स्वास्थ्य विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी को अस्पताल में मलयालम भाषा के इस्तेमाल के संबंध में भेजी गई शिकायत के अनुसरण में जारी किया गया है। उन्होंने हालांकि कहा कि एसोसिएशन परिपत्र में इस्तेमाल किए गए शब्दों से असहमत है।



और भी पढ़ें :