एक बार फिर आतंकी हमले की बॉडी कैमरे से रिकार्डिंग! आतंकियों की खुफिया चाल का खुलासा

सुरेश एस डुग्गर| Last Updated: सोमवार, 30 नवंबर 2020 (18:34 IST)
जम्मू। आतंकियों ने एक बार कश्मीर में सेना के जवानों पर आतंकी हमले के दौरान बॉडी कैमरे का इस्तेमाल करते हुए रिकॉर्डिंग की और उसे सार्वजनिक कर दिया। ऐसा करने के पीछे का उनका मकसद नए युवकों को आतंकवाद की ओर आकर्षित करना है तथा साथ ही वे भर्ती किए जाने वाले नए रंगरूटों में जोश भरना चाहते हैं।

याद रहे श्रीनगर शहर के बाहरी इलाके खुशीपोरा में 26 नवंबर को सेना पर हुए आतंकी हमले की जिम्मेदारी कश्मीर घाटी में सामने आए नए आतंकी संगठन पीपुल्स एंटी फासिस्ट फ्रंट (पीएएफएफ) ने आतंकी हमले का एक वीडियो शनिवार को वायरल किया। इस हमले में सेना के 2 जवान शहीद हुए थे। वायरल एक मिनट 52 सेकंड के वीडियो को आतंकी के बॉडी कैमरे से शूट किया गया था जिससे यह पता चलता था कि आतंकियों ने एकदम नजदीक से जवानों पर गोलियां चलाईं।
वीडियो में एक हमलावर फायरिंग करता भी दिख रहा है और दूसरे आतंकी को कश्मीरी भाषा में कवर फायर देने के लिए कह रहा है। इससे यह पता चल रहा था कि हमलावर कश्मीरी थे। दोनों जवानों को आतंकियों ने एकदम नजदीक से गोली मारी और फरार हो गए। वीडियो में जो हथियार दिखाए गए हैं, वे अक्सर जैश आतंकियों द्वारा प्रयोग में लाए जाते हैं।

4 महीनों में यह दूसरा अवसर था जबकि आतंकियों ने सेना के जवानों पर इतने करीब से हमला कर उनकी हत्या करने के साथ ही बॉडी कैमरों का इस्तेमाल कर हमलों की रिकॉर्डिंग भी की थी। इससे पहले 20 अगस्त को बारामुल्ला के करीरी में हुए ऐसे ही हमले की रिकॉर्डिंग वायरल की गई थी। तब 17 अगस्त को किए गए हमले में 3 जवान शहीद हो गए थे।
आतंकियों की इस कवायद के बाद अधिकारियों ने माना है कि कश्मीर में आतंकी अब हाईटेक हो गए हैं। वे कहते थे कि सुरक्षाबलों पर हमलों के दौरान वे बॉडी कैमरों का इस्तेमाल कर हमलों की रिकॉर्डिंग कर रहे हैं ताकि बाद में वे इन वीडियो को नए रंगरूटों को दिखाकर उनमें जोश भर सकें तथा अन्य युवकों को आतंकवाद की ओर आकर्षित कर सकें। साथ ही लोगों को दहशतजदा कर सकें।
आतंकी संगठनों द्वारा कार्रवाई को अंजाम देते समय हमले की रिकॉर्डिंग के लिए आतंकियों को बॉडी कैमरे दिए गए हैं। इसका खुलासा टीआरएफ द्वारा 20 अगस्त को जारी किए गए एक वीडियो के दौरान किया गया था। तब उन्होंने करीरी बारामुल्ला में किए गए हमले के कुछ फोटो जारी किए थे। उसमें लिखा गया था कि जल्द हमले की वीडियो भी जारी की जाएगी। सूत्रों की मानें तो अब जैश, लश्कर और अल बदर के आतंकी मिलकर काम कर रहे हैं और सभी को बॉडी कैमरे दिए गए हैं जिससे वे हमले की रिकॉर्डिंग कर सकें।

पुलिस ने करीरी व ताजा वीडियो पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि यह आतंकवाद को बढ़ावा देने का प्रयास है। हम कभी भी आतंकियों को हीरो नहीं बनने देंगे।



और भी पढ़ें :