डल झील बनी चट्‍टान, क्रिकेट खेलने वालों को जेल में डालने की चेतावनी

Dul lake
Author सुरेश एस डुग्गर| पुनः संशोधित गुरुवार, 14 जनवरी 2021 (18:16 IST)
जम्मू। कश्मीर में विश्व प्रसिद्ध का पानी जमकर चट्टान क्या बना कि उस पर क्रिकेट खेलने और टहलने वालों की बाढ़ ही आ गई। ऐसे में नागरिक प्रशासन को ऐसा करने वालों को जेल में डालने की चेतावनी देनी पड़ी। हालांकि लोगों को ऐसा करने से रोकने व हादसे की सूरत में बचाव की खातिर एसडीआरएफ की टुकड़ियां भी तैनात की गई हैं।
डल झील के जमकर चट्टान बन जाने से एक ओर डल झील के आसपास रहने वाले लोगों की दुश्वारियां बढ़ीं तो वहीं बर्फ की यह चट्टान बच्चों के लिए खेल का मैदान बन गई है। कश्मीर घाटी में हर दिन गिरते तापमान के कारण डल झील का पानी जम चुका है। पानी पर जमी बर्फ की परत पर चलते हुए लोगों की वीडियो वायरल होते ही प्रशासन ने हरकत में आते हुए डल झील के आसपास एसडीआरएफ की टीम तैनात कर दी है ताकि लोगों का यह मनोरंजन उनकी जान के लिए खतरा साबित न हो।
यही नहीं श्रीनगर के डिप्टी कमिश्नर शाहिद इकबाल भी मौके पर पहुंच गए। उन्होंने भी अपने ट्‍विटर हैंडल पर जमी हुई डल झील की तस्वीर अपलोड करते हुए लोगों को सलाह दी कि वह डल झील के जमी हुई सतह पर न चलें, यह उनके लिए खतरनाक साबित हो सकता है।
Dul lake

दरअसल, श्रीनगर में पिछले तीन दिनों के दौरान सर्दी ने तीस सालों के रिकार्ड तोड़ दिए हैं। गत बुधवार रात को श्रीनगर में न्यूनतम तापमान -8.4 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया। तापमान में लगातार हो रही गिरावट की वजह से डल झील समेत अन्य जल स्रोत जम गए हैं। हजरत बल दरगाह के नजदीक डल झील के जमे हुए पानी को देख बच्चे खुश हो गए। पहले तो बच्चों ने इस पर कुछ दूरी पर चलकर देखा जब लगा कि सब सुरक्षित है तो बच्चों के साथ-साथ बड़े भी उस पर चलने लगे। इस दौरान कुछ लोगों ने जमी हुई डल झील पर चलते हुए अपने वीडियो भी अपलोड किए।

सोशल मीडिया पर देखते ही देखते वीडियो वायरल होने लगा। कई सालों बाद डल का पानी इस तरह सख्त बर्फ में तबदील हो गया है। वीडियो को देख डीसी श्रीनगर शाहिद इकबाल भी डल झील पर पहुंच गए। उन्होंने बर्फ पर चल रहे लोगों को ऐसा करने से मना किया। इस दौरान उन्होंने जमी हुई डल झील के साथ अपना फोटो अपने ट्‍विटर हैंडल पर अपलोड करते हुए ट्वीट किया कि जमी हुई डल झील पर चलना खतरनाक हो सकता है। प्लीज इससे बचें।
एसडीआरएफ की टीमें सुरक्षा के लिए तैनात हैं। उन्होंने कहा कि स्थानीय लोगों को इस तरह के जोखिम भरे कारनामों से बचाने के लिए ही कर्मियों को यहा तैनात किया गया है।
इतना जरूर है कि कश्मीर आने वाले मुट्ठीभर पर्यटकों के लिए यह नजारा बेहद ही दिलकश है, जिन्होंने पहली बार इस झील को जमते हुए देखा है।

चिल्लेकलां के दौरान डल झील का जमना कोई नई बात नहीं है। चिल्लेकलां 21 और 22 दिसम्बर की रात को आरंभ होता है और यह 40 दिनों तक चलता है। वर्ष 1960 में गुलाम मुहम्मद बख्शी के मुख्यमंत्रित्वकाल में डल झील पूरी तरह जम गई थी। उस दौरान बख्शी ने डल पर जीप चलाने का मजा लिया था।
Dul lake
उस समय न्यूनतम तापमान शून्य से 12 डिग्री नीचे तक गिर गया था। इसके अलावा 1986 में डल झील पूरी तरह जम गई थी तब निवर्तमान मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला ने डल पर मोटर साइकिल चलाई थी। इसी साल स्थानीय युवकों ने जमी हुई झील पर एक क्रिकेट टूर्नामेंट का आयोजन किया था। इस टेनिस बाल क्रिकेट टूर्नामेंट को लोगों ने सफलतापूर्वक समाप्त भी किया था।

बुजुर्ग कहते हैं कि चिल्लेकलां के दिनों में अक्सर डल का पानी जम जाता है। इस साल के शुरू में भी डल झील पूरी तरह जम गई थी। वर्ष 2005 के दिसंबर में भी चिल्लेकलां के दौरान डल का पानी जम गया था, जो कि करीब एक महीने तक जमा रहा था।




और भी पढ़ें :