जम्‍मू-कश्‍मीर में अमित शाह के भाषण की बड़ी बातें...

पुनः संशोधित शनिवार, 23 अक्टूबर 2021 (23:18 IST)
श्रीनगर। केंद्रीय गृहमंत्री ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 'शांतिपूर्ण और विकसित जम्मू-के सपने' को साकार करने के लिए शनिवार को कश्मीर के युवाओं से समर्थन देने का आह्वान करते हुए दोहराया कि परिसीमन के बाद केंद्रशासित प्रदेश में होंगे और उसके बाद राज्य का दर्जा बहाल किया जाएगा।
उन्होंने केंद्र शासित प्रदेश के युवा क्लबों के सदस्यों के साथ बातचीत के दौरान यह टिप्पणी की। गृहमंत्री शाह अगस्त 2019 में संविधान का अनुच्छेद 370 निरस्त किए जाने के बाद पहली बार जम्मू-कश्मीर की यात्रा पर आए हैं।

उन्होंने कहा, मैं यहां कश्मीर के युवाओं से मित्रता करने आया हूं। मोदी जी और भारत सरकार के साथ हाथ मिलाइए और कश्मीर को आगे ले जाने की यात्रा में भागीदार बनिए। गृहमंत्री ने कहा कि कश्मीर के युवाओं को अपनी प्रगति के लिए सरकार द्वारा बनाए जा रहे विभिन्न मौकों का लाभ उठाना चाहिए।

शाह ने कहा, ईश्वर ने प्राकृतिक सुंदरता के साथ कश्मीर को स्वर्ग बनाया है, लेकिन मोदी जी यहां शांति, समृद्धि और विकास भी देखना चाहते हैं। उसके लिए, मैं यहां कश्मीर के युवाओं से समर्थन मांगने के लिए आया हूं।

उन्होंने कहा, प्रशासन ने मित्रता का हाथ बढ़ाया है, युवा क्लब स्थापित किए गए हैं, आपको एक मंच, एक मौका दिया गया है, इसलिए आगे आएं और इस मौके का लाभ उठाएं। यहां लोकतंत्र को मजबूत बनाएं, युवा उन तत्वों को जवाब दें जो लोगों को गुमराह करने की कोशिश करते हैं।

शाह ने जोर दिया कि सरकार जम्मू-कश्मीर में शांति और विकास के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा, आप निश्चिंत रहें, कश्मीर में विकास की यात्रा नहीं रुकेगी तथा विकास, शांति, बुनियादी ढांचा और खुशहाली के मामले में जम्मू-कश्मीर को आदर्श राज्य बनने से कोई नहीं रोकेगा।

गृहमंत्री ने कहा कि उन्होंने संसद में वादा किया है कि जम्मू-कश्मीर का राज्य का दर्जा बहाल किया जाएगा और यह विधानसभा चुनाव के बाद किया जाएगा। उन्होंने कहा, चुनाव होंगे। (कश्मीर के नेतागण चाहते हैं कि) परिसीमन को रोक दिया जाए। क्यों? क्योंकि इससे उनकी राजनीति को नुकसान होता है। अब, कश्मीर में ऐसी चीजें नहीं रुकेंगी।

शाह ने कहा, कश्मीर के युवाओं को मौके मिलेंगे, इसलिए एक सही परिसीमन किया जाएगा, उसके बाद चुनाव होंगे और फिर राज्य का दर्जा बहाल किया जाएगा। मैंने देश की संसद में यह कहा है और इसका यह रोडमैप है।

उन्होंने कहा कि यूथ क्लबों के सदस्यों के साथ बातचीत के बाद उन्हें खुशी हुई, क्योंकि कश्मीर के युवा अब सही मार्ग पर निकल पड़े हैं और विकास की यात्रा में साझेदार बन गए हैं। उन्होंने कहा, मैं आपके अच्छे भविष्य की कामना करता हूं। यूथ क्लबों के इस अवसर का लाभ उठाते हुए आगे बढ़ते रहें और प्रशासन को सहयोग दें।(भाषा)




और भी पढ़ें :