Home Loan लेकर बनाएं ड्रीम होम, होंगे बड़े फायदे, जानिए 10 खास बातें

नृपेंद्र गुप्ता|
अगर आप अपना ड्रीम होम बनाना चाहते हैं तो आपको लेकर ही नया खरीदना या बनाना चाहिए। इस तरह अगर आप प्लानिंग से होम लोन लेकर घर खरीदते हैं तो आपको इसके कई फायदे हो सकते हैं। जानिए होम लोन से जुड़ीं 10 खास बातें...
आसान किश्तों में चुका सकते हैं पैसा : लोन पर मकान खरीदने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि बैंक एक निश्चित राशि की किश्त बांध देता है। इस राशि को आप आसानी से चुका सकते हैं।

नहीं होंगे धोखे का शिकार : बैंक से लोन लेकर प्रॉपर्टी लेने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि इसमें आपको धोखा मिलने की संभावना नहीं के बराबर रहती है। बैंक पूरी तरह जांच करने के बाद ही किसी भी संपत्ति पर लोन देती है।
लोन की अवधि जितनी ज्यादा, उतना फायदा : आपके होम लोन की अवधि जितनी ज्यादा होगी आपको उतना ही फायदा होगा। मसलन अगर आप 15 लाख रुपए का लोन 20 साल के लिए लाने चाहते हैं तो इसकी अवधि बढ़ाकर 30 साल कर दें। इससे आपकी मासिक किश्त भी कम आएगी साथ ही आपकी लोन पात्रता भी बढ़ जाएगी।

सब्सिडी का फायदा : अगर आपने लोन पर मकान लिया है तो ही आपको इस पर सरकारी सब्सिडी का फायदा मिलता है। यह फायदा उन्हीं लोगों को मिलता है जिनके नाम पहले से कोई मकान नहीं है।
पूंजी नहीं होती ब्लॉक : अगर आप होम लोन लेकर घर खरीदते हैं तो इसका सबसे बड़ा फायदा यह है कि आपकी पूंजी ब्लॉक नहीं होती। अगर आपके पास डाउन पैमेंट करने के बाद भी कुछ पैसा बचता है तो आप उसे सही जगह निवेश कर सकते हैं। साथ ही कुछ किश्तें एडवांस में बैंक खाते में भी रख सकते हैं।

इनकम टैक्स में छूट : होम लोन का एक बड़ा फायदा यह है कि आपको इनकम टैक्स में मूल और ब्याज दोनों पर छूट मिलती है। अगर आप नकद पैसे देकर संपत्ति खरीदते हैं तो आपको इसमें किसी भी प्रकार की टैक्स रिबेट नहीं मिलती।
पहले चेक होता है Cibil स्कोर : जब भी आप होम लोन के लिए अप्लाय करते हैं तो सबसे पहले बैंक आपका Cibil स्कोर चेक करती है। अगर आपके पास क्रेडिट कार्ड है जिसका भुगतान आप समय पर नहीं कर रहे हैं या कोई पुराना लोन से जिसे नहीं चुकाया गया हो तो बैंक आपको लोन देने से इनकार कर सकती है।

संयुक्त रूप से भी ले सकते हैं लोन : अगर आप किसी अन्य व्यक्ति के साथ मिलकर कोई संपत्ति खरीदना चाहते हैं तो बैंक दोनों को संयुक्त रूप से भी संपत्ति पर लोन देती है। अगर 2 लोग मिलकर लोन लेते हैं तो बैंक को बड़ा लोन पोर्टफोलियो मिलता है। आम तौर पर जहां पति पत्नी दोनों ही काम करते हैं, वहां कोई भी संपत्ति दोनों के ही नाम पर खरीदी जाती है। इससे संपत्ति की रजिस्ट्री में भी फायदा मिलता है।
होम लोन लेते समय इस बात का रखें ध्यान : होम लोन से पहले कई बैंकों और हाउसिंग फाइनेंस कंपनियों की दरों और शर्तों की पूरी जानकारी लें। वैसे तो ज्यादातर बैंकों की यही कोशिश होती है कि वे आप के प्रोफाइल के अनुसार लोन की सब से अच्छी दरों की पेशकश करें। आपको पता होना चाहिए कि आपके होम लोन की दर स्थिर रहेगी या RBI की पॉलिसी के अनुसार बदलती रहेगी।
आप चाहे तो समय से पहले भी होम लोन चुका सकते हैं।

कितना मिल सकता है लोन : वेतनभोगी वर्ग को सालाना आय का 4 गुना होम लोन दिया जा सकता है। जबकि चार्टर्ड अकाउंटैंट, डाक्टर जैसे पेशेवरों को उन की सालाना आय का 7 गुना तक लोन दिया जा सकता है।


और भी पढ़ें :