1. समाचार
  2. मुख्य ख़बरें
  3. राष्ट्रीय
  4. 3 new versions of Vande Bharat trains to be started by next March
Written By
पुनः संशोधित: गुरुवार, 25 मई 2023 (21:50 IST)

Vande Bharat Express : 3 तरह की ‘वंदे भारत’ ट्रेन चलेगी, वंदे चेयर कार, वंदे मेट्रो और वंदे शयनयान, जानिए कबसे दौड़ेगी

देहरादून। Vande Bharat Express update  : रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने गुरुवार को कहा कि अगले साल फरवरी-मार्च तक वंदे भारत (Vande Bharat) रेलगाड़ियों के 3 प्रारूप- वंदे चेयर कार, वंदे मेट्रो और वंदे शयनयान होंगे।
 
उन्होंने कहा कि शताब्दी, राजधानी और लोकल ट्रेन की जगह लेने की तैयारी कर रही ये स्वदेशी ‘सेमी-हाई स्पीड’ रेलगाड़ियां चेन्नई के कोच निर्माण कारखाने में बनाई जा रही हैं।
 
वैष्णव ने ‘ भाषा’ के साथ एक इंटरव्यू में कहा कि वंदे भारत रेलगाड़ियों की अधिकतम गति 160 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार के लिए अगले तीन से चार साल में रेल पटरियों को उन्नत बनाया जाएगा।
 
उत्तराखंड के देहरादून से दिल्ली के आनंद विहार टर्मिनल रेलवे स्टेशन तक वंदे भारत ट्रेन की शुरुआत के बाद वैष्णव ने कहा कि वंदे भारत के तीन प्रारूप हैं। 
 
100 किलोमीटर से कम की यात्रा के लिए वंदे मेट्रो, 100-550 किलोमीटर के लिए वंदे चेयर कार और 550 किलोमीटर से अधिक की यात्रा के लिए वंदे स्लीपर। ये तीनों प्रारूप फरवरी-मार्च (अगले साल) तक तैयार हो जाएंगे। प्रधानमंत्री मोदी ने दिल्ली-देहरादून वंदे भारत एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाई।
 
उत्तराखंड के लिए इस तरह की पहली रेलगाड़ी राज्य की राजधानी और राष्ट्रीय राजधानी के बीच यात्रा के समय को देहरादून-नई दिल्ली रेलवे स्टेशन शताब्दी एक्सप्रेस में लगने वाले 6 घंटे और 10 मिनट से घटाकर साढ़े चार घंटे कर देती है।
 
वैष्णव ने कहा कि ऋषिकेश और कर्णप्रयाग के बीच रेल संपर्क परियोजना दो साल में पूरी हो जाएगी और रेलवे सीमावर्ती क्षेत्रों में स्थित गांवों को जोड़ने के लिए भी काम कर रहा है।
 
उन्होंने कहा कि जून के मध्य तक हर राज्य को वंदे भारत रेलगाड़ी मिल जायेगी। उन्होंने कहा कि इन रेलगाड़ियों के निर्माण में तेजी लाई जा रही है।
 
वैष्णव ने कहा कि हर 8वें या नौवें दिन कारखाने से एक नई रेलगाड़ी निकल रही है। दो और कारखानों में काम शुरू होने जा रहा है। इन कारखानों की आपूर्ति श्रृंखला स्थिर होने के बाद हमारे पास एक नई रेलगाड़ी आएगी।
 
वंदे भारत रेलगाड़ियों को 160 किलोमीटर प्रति घंटे की अधिकतम गति के साथ तैयार किया गया है, लेकिन वे पटरी की क्षमता के अनुसार 130 किलोमीटर प्रति घंटे तक की गति से चलेंगी।
 
उन्होंने कहा कि पुरानी पटरियों को 70 से 80 किलोमीटर प्रति घंटे के बीच की गति के लिए तैयार किया गया था। लगभग 25,000-35,000 किलोमीटर पटरियों को 110 किलोमीटर प्रति घंटे, 130 किलोमीटर प्रति घंटे और 160 किलोमीटर प्रति घंटे की गति के लिए उन्नत किया जा रहा है। यह काम अगले 3  से 4 साल में हो जाएगा।
 
रेल मंत्री ने कहा कि 2027-28 तक 20,000-30,000 किलोमीटर के ट्रैक पर वंदे भारत रेलगाड़ियां 160 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चल सकेंगी। उन्होंने कहा कि तीव्र गति रेलगाड़ियों का समर्थन करने के लिए रेलवे ओवरहेड पावर लाइनों को भी उन्नत बनाया जा रहा है।
 
वैष्णव ने कहा कि रेलगाड़ियों की चपेट में मवेशियों के आने को रोकने के लिए रेलवे पटरियों के किनारे बाड़ लगाने पर काम कर रहा है।
 
उन्होंने कहा कि बाड़ लगाने के लिए बहुत ही अनूठा डिजाइन तैयार किया गया है। ऊंचाई लगभग 5 फुट है और इसमें दो क्षैतिज अवरोधक हैं। यह मुंबई और अहमदाबाद के बीच लगभग 250 किलोमीटर की दूरी पर स्थापित किया गया है, और जब से इसे स्थापित किया गया है तब से किसी भी मवेश की रेलगाड़ी की चपेट में आने से मौत नहीं हुई है। हम हाई-स्पीड ट्रेनों के लिए सभी कारकों पर काम कर रहे हैं।
 
मंत्री ने कहा कि रेलवे का बजट एक लाख करोड़ रुपये से बढ़ाकर वर्तमान में 2.4 लाख करोड़ रुपए कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि हमें परियोजनाओं को पूरा करने के लिए रेलवे की क्षमता बढ़ानी होगी। 
 
मंत्री ने कहा कि रेलवे सीमावर्ती क्षेत्रों के लिए रेल संपर्क परियोजनाओं पर तेजी से काम कर रहा है। उन्होंने कहा कि रेल यात्रियों को 4जी-5जी सेवाएं मुहैया कराने के लिए भी कदम उठाए जा रहे हैं।
 
वैष्णव ने कहा कि रेलवे द्वारा तेजी से 4जी-5जी टावर लगाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि कई स्थानों पर उन्हें स्थापित किया गया है और यह काम लगातार जारी है। भाषा
ये भी पढ़ें
पहली बार INS विक्रांत पर रात में उतरा मिग-29 K लड़ाकू विमान, देखें VIDEO और तस्वीरें...