weather Alert: दिल्ली में टूटा 18 साल का रिकॉर्ड, महाराष्ट्र में बाढ़ से 200 से अधिक मौतें, कई राज्यों में मौसम विभाग का अलर्ट

Last Updated: बुधवार, 28 जुलाई 2021 (08:40 IST)
मुख्य बिंदु
  • दिल्ली में टूटा 18 साल की बारिश का रिकॉर्ड
  • महाराष्ट्र में 207 से अधिक की मौत
  • प्रदेश में रेड अलर्ट जारी
नई दिल्ली। उत्तर-मध्य मध्यप्रदेश पर बना निम्न दबाव का क्षेत्र अब उत्तर पश्चिमी मध्यप्रदेश की ओर बढ़ गया है।औसत समुद्र तल से 5.8 किलोमीटर ऊपर तक संबद्ध चक्रवाती परिसंचरण फैला हुआ है और ऊंचाई के साथ दक्षिण की ओर झुका हुआ है। कर्नाटक तट से केरल तट तक एक ट्रफ रेखा फैली हुई है। एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र उत्तर-पश्चिमी राजस्थान पर बना हुआ है।
ALSO READ:

महाराष्‍ट्र में बारिश का कहर, 6 जिलों में 200 से ज्यादा की मौत

स्काईमेट के अनुसार पिछले 24 घंटों के दौरान बिहार की तलहटी में हल्की से मध्यम से हुई। पश्चिम बंगाल, असम के कुछ हिस्सों, दिल्ली, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, पूर्वी राजस्थान, मध्यप्रदेश, मराठवाड़ा के कुछ हिस्सों और लक्षद्वीप के अलग-अलग हिस्सों में हल्की मध्यम बारिश के साथ कुछ स्थानों पर भारी बारिश हुई है।
तटीय कर्नाटक और जम्मू-कश्मीर के कुछ हिस्सों में एक या दो और तेज बारिश के साथ हल्की से मध्यम बारिश के साथ 1-2 स्थानों पर तेज बारिश हुई। बाकी बिहार, झारखंड, ओडिशा, छत्तीसगढ़, पूर्वी मध्यप्रदेश, सौराष्ट्र और कच्छ, कोंकण और गोवा, तटीय कर्नाटक, केरल, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह और तमिलनाडु के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश हुई। उत्तरप्रदेश, तमिलनाडु के कुछ हिस्सों, आंध्रप्रदेश तेलंगाना, मराठवाड़ा और आंतरिक कर्नाटक में हल्की बारिश हुई।


अगले 24 घंटों के दौरान, उत्तर पूर्वी राजस्थान, मध्यप्रदेश के कुछ हिस्सों, उत्तरप्रदेश, दिल्ली, हरियाणा, पश्चिमी हिमालय, बिहार, पश्चिम बंगाल सिक्किम और गुजरात के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश के साथ कुछ स्थानों पर भारी बारिश हो सकती है।

दिल्ली में टूटा 18 साल का रिकॉर्ड : करीब 15 दिन के इंतजार के बाद दिल्ली में मानसून ने दस्तक दी और ये खूब मेहरबान है। बारिश के मामले में दिल्ली ने सेंचुरी मारी है, क्योंकि दिल्‍ली के कुछ इलाकों में 100 मिलीमीटर तक बारिश दर्ज हुई, जो कि सन् 2003 के बाद का सबसे बड़ा रिकॉर्ड है। ऐसा एक दशक बाद हुआ है, जब यहां 3 डिजिट में बारिश दर्ज की गई है। अब तक 1 महीने में सबसे बड़ा रिकॉर्ड 266.2 मिलीमीटर का बना है, जो कि इससे पहले 21 जुलाई 1958 में बना था। मौसम विभाग के मुताबिक यानी बुधवार को भी दिल्ली में बारिश के जारी रहने का अनुमान है। दिल्ली में बेशक मानसून देरी से आया हो लेकिन अब राजधानी में अच्छी खासी बारिश हो रही है। शहर में अब तक 381 मिमी वर्षा दर्ज की गई है जो 2003 के बाद से जुलाई के लिए सबसे अधिक है।
महाराष्ट्र में 207 से अधिक की मौत : महाराष्ट्र में वर्षजनित हादसों में मंगलवार को मरने वालों की संख्या बढ़कर 207 हो गई और भारी बारिश व कोयना बांध से पानी छोड़े जाने के कारण लाखों लोगों को सुरक्षित स्थानों पर जाना पड़ा। वहीं उत्तरी राज्यों में व्यापक बारिश दर्ज की गई। दिल्ली में 8 साल में, जुलाई में एक दिन में सबसे ज्यादा बारिश हुई। मौसम विज्ञान विभाग ने बंगाल की खाड़ी के ऊपर कम दबाव का क्षेत्र बनने के कारण अगले 3 दिनों में ओडिशा और पश्चिम बंगाल में भारी बारिश होने का अनुमान जताया है।
हिमाचल प्रदेश में रेड अलर्ट जारी : मौसम विभाग ने हिमाचल प्रदेश में 28 जुलाई को बहुत भारी बारिश का अनुमान जताते हुए रेड अलर्ट जारी किया गया है। यहां के कई हिस्सों में सोमवार को हल्की से मध्यम बारिश हुई। अगले कुछ दिनों में भारी बारिश के कारण अचानक बाढ़, भूस्खलन और पेड़ों के उखड़ने की चेतावनी भी दी। यहां अगले कुछ दिनों में भारी बारिश के कारण अचानक बाढ़, भूस्खलन और पेड़ों के उखड़ने की चेतावनी भी दी गई। राज्य में 28 जुलाई को बहुत भारी बारिश का अनुमान जताते हुए 'रेड' अलर्ट तथा 29 जुलाई को भारी से बहुत भारी बारिश के लिए 'ऑरेंज' अलर्ट और 30 जुलाई को मध्यम से भारी बारिश के लिए 'येलो' अलर्ट जारी किया गया है।



और भी पढ़ें :