मंदसौर जहरीली शराब मौत मामले पर सरकार सख्त,TI,SI समेत आबकारी उपनिरीक्षक सस्पेंड,जांच दल का गठन

मंदसौर में जहरीली शराब पीने से 6 की मौत

Author विकास सिंह| पुनः संशोधित मंगलवार, 27 जुलाई 2021 (18:10 IST)
भोपाल। मध्यप्रदेश के में पीने से 6 लोगों की मौत के मामले में सरकार सख्त हो गई है। घटना की जांच के लिए अपर मुख्य सचिव गृह के नेतृत्व में एक जांच दल का गठन किया गया है। जांच दल मंदसौर जाकर घटना की जांच करेगा और सरकार को पूरी रिपोर्ट देगा। जांच दल में एडीजी सतर्कता जीपी सिंह, आईजी रेल एमएस सिकरवार शामिल हैं।
वहीं पूरे मामले को लेकर आज मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंत्रालय में आपात बैठक की। बैठक में मामले में लापरवाही बरतने पर थाना प्रभारी पिपल्या मण्डी, कार्यवाहक उप निरीक्षक और आबकारी उप निरीक्षक को निलंबित कर दिया गया है। वहीं मंदसौर के जिला आबकारी अधिकारी को हटाकर उज्जैन अटैच किया गया।

बैठक में मुख्यमंत्री ने घटना पर नाराजगी जताते हुए कहा कि जहरीली शराब से मौत, हत्या से कम नहीं है। जहरीली शराब बनाने और बेचने को संगीन अपराध की श्रेणी में रखा जाए और कठोरतम दंड की व्यवस्था की जाए। इस संबंध में कानून में आवश्यक संशोधन किए जाए। पूरे प्रदेश में अवैध शराब के विरुद्ध तत्काल प्रभाव से अभियान शुरू किया जाए।


बैठक में मुख्यमंत्री ने अवैध शराब के उत्पादन और व्यापार पर नियंत्रण के उपायों पर कार्य-योजना बनाने के निर्देश दिए। प्रदेश में राज्य औद्योगिक सुरक्षा बल का उपयोग अवैध शराब के व्यवसाय को रोकने के संबंध में भी बैठक में विचार-विमर्श हुआ।



और भी पढ़ें :