मप्र में निकाय चुनाव से अपने चुनावी सफर का आगाज कर सकती है असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी AIMIM

पुनः संशोधित बुधवार, 23 दिसंबर 2020 (19:02 IST)
इंदौर। असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) भाजपा शासित मध्यप्रदेश में अगले स्थानीय निकाय चुनावों से अपने चुनावी सफर का आगाज कर सकती है। सूबे के कई शहरों और कस्बों में ये चुनाव वर्ष 2021 की शुरुआत में संभावित हैं।

की राज्य इकाई के कार्यकारी अध्यक्ष डॉ. नईम अंसारी ने बुधवार को बताया कि हम अगले स्थानीय निकाय चुनावों में इंदौर, भोपाल, उज्जैन, खंडवा, सागर, बुरहानपुर, खरगोन, रतलाम, जावरा, जबलपुर, बालाघाट, मंदसौर और कुछ अन्य स्थानों से मैदान में उतरने की संभावनाएं तलाश रहे हैं।

अंसारी ने बताया कि एआईएमआईएम के प्रदेश प्रभारी और ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम (जीएचएमसी) के तीन बार के पार्षद सैयद मिन्हाजुद्दीन के मार्गदर्शन में इन इलाकों में पार्टी का अंदरूनी सर्वेक्षण किया जा रहा है।
उन्होंने बताया कि सर्वेक्षण की रिपोर्ट की रोशनी में एआईएमआईएम प्रमुख ओवैसी सूबे में पार्टी द्वारा अगले स्थानीय निकाय चुनाव लड़ने के बारे में फैसला करेंगे।

गौरतलब है कि पिछले दिनों सुर्खियों में रहे जीएचएमसी चुनाव में भाजपा ने ओवैसी की पार्टी को उसके गढ़ में चुनौती दी थी। ऐसे में तेलंगाना के बाद अब मध्यप्रदेश के स्थानीय निकाय चुनावों में भी दोनों दलों के बीच टक्कर देखने को मिल सकती है। बहरहाल, मध्यप्रदेश की सियासत पारंपरिक रूप से दो ध्रुवीय रही है और गुजरे बरसों में सत्ता की बागडोर भाजपा या कांग्रेस के हाथों में ही रही है।
ऐसे में एआईएमआईएम सरीखी नई राजनीतिक ताकत के लिए राज्य में कितनी चुनावी गुंजाइश है, यह पूछे जाने पर अंसारी ने कहा कि जातिवादी राजनीति और खासकर शिक्षा तथा स्वास्थ्य के बुनियादी क्षेत्रों में गिरावट से सूबे के ज्यादातर लोग भाजपा और कांग्रेस, दोनों ही दलों की सरकारों से तंग आ चुके हैं। वे तीसरा विकल्प ढूंढ रहे हैं।

उन्होंने बताया कि एआईएमआईएम ने वर्ष 2015 से मध्यप्रदेश में अपना कामकाज शुरू किया था। हमने अब तक राज्य में कोई भी चुनाव नहीं लड़ा है।

अंसारी ने यह भी बताया कि आगामी स्थानीय निकाय चुनावों से पहले राज्य में एआईएमआईएम का विस्तार किया जा रहा है। एआईएमआईएम के एक नेता ने बताया कि इन चुनावों से पहले पार्टी के पक्ष में माहौल बनाने के लिए राज्य में कार्यक्रमों के लिए ओवैसी को बुलाने की कोशिश भी की जा रही है। (भाषा)



और भी पढ़ें :