मध्यप्रदेश बजट से बेरोजगारों को बड़ी खुशखबरी,पुलिस में 4 हजार और स्कूलों में 24 हजार नए शिक्षकों की भर्ती का एलान

वित्तमंत्री के बजट भाषण में आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश बनाने पर फोकस

Author विकास सिंह| Last Updated: मंगलवार, 2 मार्च 2021 (20:35 IST)
भोपाल। कोरोना महामारी से जूझ रही मध्यप्रदेश की जनता को शिवराज सरकार ने बजट के माध्यम से बड़ी राहत दी है। सरकार ने बजट में किसी भी नए टैक्स नहीं लगाने और मौजूदा किसी भी टैक्स को नहीं बढ़ाने का एलान किया है। आज सदन में वित्तीय वर्ष 2021-22 का बजट पेश करते हुए वित्तमंत्री जगदीश देवड़ा ने आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश पर खासा फोकस किया।

24 हजार नए शिक्षकों की भर्ती का एलान- बजट में वित्त मंत्री ने बेरोजगारों के लिए बड़ा एलान करते हुए स्कूल शिक्षा विभाग में नए वित्तीय वर्ष में 24 हजार 200 नए किया। इसके साथ बजट में स्कूलों के लिए ‘सी.एम. राइज’ योजना का एलान करते हुए वित्तमंत्री ने कहा कि योजना के तहत 9 हजार 200 विद्यालयों को सर्वसुविधायुक्त विद्यालय के रूप में विकसित किया जाएगा। इसके साथ स्कूलों में स्मार्ट क्लास, डिजीटल लर्निंग कंप्यूटर लैब बनाने पर भी जोर दिया जाएगा। शिक्षा की गुणवत्ता सुधारने के लिए IIM इंदौर और IIT गांधी नगर में शिक्षकों का प्रशिक्षण दिया जाएगा।

बजट में 9 वीं से 12 वीं की शिक्षा सुलभ कराने के लिए घर से विद्यालय तक परिवहन व्यवस्था को पायलट प्रोजेक्ट के रुप में प्रारंभ किया जाएगा। नए शिक्षण सत्र में बैतूल के आठनेर,उमरिया के पाली, बालाघाट के बिरसा,झाबुआ और धार के धरमपुर में पायलट योजना के रुप में लागू किया जाएगा।


पुलिस में 4 हजार पदों पर भर्ती का लक्ष्य-बजट में प्रदेश की कानून व्यवस्था की स्थिति को मजबूत करने के लिए पुलिस विभाग में विभिन्न पदों पर करीब 4 हजार नई भर्तियां किए जाने की भी घोषणा की गई है। इसके साथ प्रदेश के हर जिले में एक महिला थाना खोले जाने का एलान भी वित्तमंत्री ने अपने बजट भाषण में किया है।

इसके साथ अपराध ‌एवं अपराधियों पर काबू करने के लिए सीसीटीएनएस, सीसीटीवी और डायल-100 को एकीकृत किया जाएगा। वित्तमंत्री ने अपने बजट में बताया कि प्रदेश में भूमाफियाओं के कब्जे से अब 8 हजार 800 करोड़ रुपए मूल्य की करीब तीन हजार 300 एकड़ ‌से ‌अधिक सरकारी जमीन मुक्त कराई गई। प्रदेश में यह अभियान निरंतर जारी रहेगा

स्वस्थ एमपी के लिए ‘मिशन निरामय’ योजना का एलान- बजट में स्वास्थ्य क्षेत्र पर खासा फोकस करते हुए मिशन निरामय योजना शुरु करने का एलान किया गया। इसके साथ बजट में प्रदेश में 9 नए मेडिकल कॉलेज खोलने जाने का भी एलान किया गया है। प्रदेश के श्योपुर,राजगढ़,मंडला,सिंगरौली, नीमच, मंदसौर, छतरपुर, दमोह और सिवनी में नए मेडिकल कालेज खोले जाएंगे। इसके साथ प्रदेश में मेडिकल कालेजों में वर्तमान में उपलब्ध 2,035 सीटों को बढ़ाकर वर्ष 2022-23 तक 3,250 किए जाने का बड़ा एलान वित्तमंत्री ने अपने बजट भाषण में किया है।
10 ट्रिलियन रुपए की GDP वाली इकोनॉमी बनाने का लक्ष्य-आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश को ध्यान में रखते हुए वित्तमंत्री ने सदनमें 2 लाख 40 हजार करोड का बजट भाषण पेश किया है। वित्त मंत्री के बजट भाषण की सबसे बड़ी बात यह रहीं कि उन्होंने अपने बजट भाषण में प्रदेश में किसी नए टैक्स न तो लगाने का एलान किया और न ही पहले से लगाए गए किसी टैक्स को बढ़ाने का एलान किया।

वित्तमंत्री ने अपने बजट भाषण में 2021-2 में सकल घेरलू उत्पाद 10 ट्रिलियन रुपए के पार होने का अनुमान जताया है। बजट में प्रदेश में बुजुर्ग नागरिकों के लिए तीर्थ दर्शन योजना फिर से शुरू किए जाने का एलान भी वित्तमंत्री ने अपने बजट भाषण में किया है। इसके साथ प्रदेश में कुपोषण को खत्म करने के लिए पोषण मटका कार्यक्रम को बढ़ावा देने का एलान किया गया है।




और भी पढ़ें :