राहुल का चुनावी वादा, सरकार बनी तो राफेल की जांच, जेल में होगा 'चौकीदार'

नागपुर| पुनः संशोधित शुक्रवार, 5 अप्रैल 2019 (07:59 IST)
नागपुर। पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर को सौदे में भ्रष्टाचार होने की बात पता होने का दावा करते हुए अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि अगर उनकी पार्टी केंद्र में सत्ता में आई तो इस सौदे की जांच की जाएगी। उन्होंने कहा कि मैं आपको बता रहा हूं कि चुनाव के बाद जांच शुरू होगी। और जेल में होंगे।
राहुल गांधी ने एक चुनावी रैली में आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लड़ाकू विमान खरीद सौदे में बदलाव किया जिसकी वजह से इसके दाम बढ़ गए। उन्होंने कहा कि रक्षा मंत्रालय का दस्तावेज बताता है कि नरेंद्र मोदी ने मूल सौदे में बदलाव किया और एक विमान 1600 करोड़ रुपए में खरीदा।

राफेल मुद्दे पर अनिल अंबानी को निशाना बनाते हुए कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि रक्षा निर्माण में उद्योगपति की विशेषज्ञता नहीं है, उनका व्यवसाय विफल हो गया और उनके पास धन नहीं है, फिर भी उन्हें सबसे बड़ा रक्षा ठेका मिला।
उन्होंने कहा कि महत्वाकांक्षी ‘न्याय’ योजना को विशेषज्ञों से विचार-विमर्श करने के बाद ही अंतिम रूप दिया गया। गांधी ने कहा कि कांग्रेस अगर सत्ता में आती है तो योजना के तहत गरीब भारतीय परिवारों के खाते में वार्षिक 72 हजार रुपए जमा कराए जाएंगे।

कांग्रेस नेता ने कहा कि वह यहां लंबी पारी खेलने आए हैं न कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की तरह झूठ बोलने में विश्वास रखते हैं। उन्होंने कहा कि विशेषज्ञों से बात करने के बाद ही न्याय योजना के तहत गरीब परिवारों को 72 हजार रुपए वार्षिक देने का वादा किया गया है।
कांग्रेस प्रमुख ने कहा कि योजना को लागू करने से अर्थव्यवस्था प्रभावित नहीं होगी। गांधी ने कहा कि योजना गरीबी पर सर्जिकल स्ट्राइक साबित होगी। गांधी ने कहा कि झूठ का भंडाफोड़ हो जाता है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस जहां भारत के लोगों के लिए काम करना चाहती है वहीं भाजपा खोखले वादे करती है। (भाषा)



और भी पढ़ें :