दुनियाभर में कोरोना टीके के लिए सीरिंज की कमी, टीकाकरण कार्यक्रम प्रभावित होने का अंदेशा

Last Updated: बुधवार, 10 नवंबर 2021 (11:07 IST)
विश्व स्वास्थ्य संगठन ने दुनियाभर में अरबों की कमी की चेतावनी दी है। कोरोनावायरस के टीके लगाने और बच्चों का टीकाकरण करने के लिए इस समय अरबों सीरिंज की जरूरत है। विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है कि 2022 में कोविड-19 टीकाकरण के लिए आवश्यक 1 से 2 अरब सीरिंज की कमी हो सकती है, जो नियमित टीकाकरण को भी प्रभावित कर सकती है और सुई की सुरक्षा को कमजोर कर सकती है।

कोविड-19 के खिलाफ विकसित, विकासशील और गरीब देशों में टीके लगाए जा रहे हैं। कई देश पहले से ही वैक्सीन प्राप्त करने वालों को वैक्सीन बूस्टर देने की योजना बना रहे हैं। इस बड़े पैमाने पर टीकाकरण कार्यक्रम के लिए लगभग दो अरब या उससे अधिक सीरिंज की आवश्यकता होगी। वैक्सीन बनाने वाली कंपनियों के साथ-साथ सीरिंज कंपनियां भी भारी मुनाफा कमा रही हैं।

सीरिंज की कमी का असर
का कहना है कि संयुक्त राष्ट्र को 2022 तक लगभग दो अरब सीरिंज की आवश्यकता होगी और वैश्विक कमी बढ़ने की संभावना है। डब्ल्यूएचओ के अनुसार कमी की स्थिति में वैश्विक टीकाकरण और नियमित टीकाकरण कार्यक्रम प्रभावित हो सकते हैं।

जानकारों के मुताबिक कई देशों में सीरिंज के दाम बढ़ाने का चलन पहले ही शुरू हो चुका है। हाल के महीनों में यह देखा गया है कि भारत और पाकिस्तान जैसे देशों में गंभीर कोरोना महामारी के दिनों में उच्च मांग वाली दवाओं की कीमतें आसमान छू गईं।
डब्ल्यूएचओ की विशेषज्ञ लिसा हेडमैन का कहना है कि विभिन्न देशों में राष्ट्रीय स्वास्थ्य संगठनों को अभी से एहतियाती कदम उठाने की जरूरत है ताकि टीकाकरण और जीवन बचाने के बीच कोई समझौता न हो। हेडमैन के मुताबिक लोगों की सुरक्षा के लिए यह एक महत्वपूर्ण लेकिन छोटा औजार है।

लिसा हेडमैन ने बताया कि दुनियाभर में सीरिंज की कमी बढ़ रही है और अगर ऐसा होता है तो यह निश्चित रूप से बहुत परेशान करने वाली स्थिति पैदा करेगा।
सीरिंज की कमी से बच्चों पर पड़ेगा असर

हेडमैन का कहना है कि सीरिंज की संभावित कमी बच्चों को सबसे ज्यादा प्रभावित करेगी क्योंकि उनके टीकाकरण को निलंबित कर दिया जाएगा। अगर ऐसी स्थिति बनी तो यह गरीब और अविकसित देशों के बच्चों के लिए परेशान करने वाली स्थिति पैदा करेगी और कई लोगों की जान जोखिम में पड़ जाएगी।

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष ने यह भी कहा कि वह बच्चों के टीकाकरण कार्यक्रमों पर प्रभाव को कम करने के लिए अपने गोदामों में लाखों सीरिंज स्टोर करेगा। कुछ महीने पहले संयुक्त राष्ट्र ने घोषणा की थी कि 2021 तक 1 अरब से अधिक सीरिंज की आवश्यकता होगी ताकि कोरोनावायरस के एक नए संस्करण के खिलाफ टीकाकरण किया जा सके।
एए/सीके (रायटर्स, एएफपी)



और भी पढ़ें :