गुरुवार, 2 फ़रवरी 2023
  1. सामयिक
  2. डॉयचे वेले
  3. डॉयचे वेले समाचार
  4. Rajasthan women
Written By DW
पुनः संशोधित मंगलवार, 6 अप्रैल 2021 (12:08 IST)

कभी कढ़ाई घर तक सीमित थी, अब महिला ने दिलाई वैश्विक पहचान

राजस्थान में एक सामाजिक कार्यकर्ता 15,000 महिलाओं को अपने पैरों पर खड़े होने में मदद कर एक तरह की क्रांति पैदा कर रही है। बाड़मेर की लता कच्छवाहा महिलाओं को उनके उत्पाद विदेशी ग्राहकों को बेचने में मदद कर रही हैं।
 
लता महिलाओं को हस्तकला, कपड़े पर होने वाली कढ़ाई और चिकन के काम से लेकर कशीदाकारी में एक वैश्विक पहचान अर्जित करने में मदद कर रही हैं। कशीदाकारी हस्तकला का एक पारंपरिक रूप है, जो पीढ़ियों से चली आ रही है। इस तरह की कढ़ाई का उपयोग अन्य मदों की मेजबानी के बीच शॉल, रूमाल, बेड कवर, कुशन और बैग को सजाने के लिए किया जाता है।
 
लता कहती हैं, "तीन दशक पहले बाड़मेर में जीवन काफी अलग था, क्योंकि जमीनी स्तर पर काम करने वाली महिलाएं बहुत ही कम थीं। उस समय होमगार्डस विभाग में एक महिला तैनात थी, जबकि स्कूलों में दो से तीन विधवाएं कार्यरत थीं। इसलिए महिलाओं को काम करने के लिए लेकर आना काफी चुनौतीपूर्ण था, लेकिन यह असंभव नहीं था।"
 
वे बताती हैं, "मूल रूप से मैं जोधपुर से हूं और मैं मेरी मां के निधन के बाद यहां आई थी और उस समय मेरी उम्र 22 साल की थी। सामाजिक कार्य कुछ ऐसा था, जिसने मुझे प्रभावित किया और इसलिए मैं मगराज जैन से जुड़ गई, जो श्योर (सोसायटी टू अपलिफ्ट रूरल इकोनॉमी) के संस्थापक थे। मैं तुरंत उस काम से प्रेरित हो गई, जो वह कर रहे थे।"
 
लता कहती हैं कि उन्होंने बाड़मेर के गांवों की 100-150 महिलाओं को और फिर 200 महिलाओं को समूहों में प्रशिक्षण देना शुरू किया। अगले 20 सालों में यह संख्या 15,000 को छू गई। इन महिलाओं को उनके काम को बेचने और एक सभ्य रहन-सहन के लिए विभिन्न समूहों/बाजारों से जोड़ा गया है। लता के मुताबिक, "हमारी महिलाएं अब अंतरराष्ट्रीय बाजार में गुणवत्ता रख रखाव और लागत तय करने में प्रशिक्षित हैं।"
 
वास्तव में इस कला ने विदेशों में भी प्रसिद्धि और प्रशंसा हासिल की है, क्योंकि इस कढ़ाई का इस्तेमाल करने वाले उत्पादों को जर्मनी, जापान, सिंगापुर और श्रीलंका जैसे देशों में विभिन्न प्रदर्शनियों में प्रदर्शित किया गया है।
 
हालांकि कुछ दशक पहले तक यह कढ़ाई स्थानीय परिवारों तक ही सीमित थी और इन्हें लड़की को दहेज के तौर पर अपने घरों को सजाने के लिए दिया जाता था या परिवार के सदस्यों को इन्हें उपहार में दे दिया जाता था। लेकिन आज फैबइंडिया, आइकिया और रंगसूत्र जैसे मशहूर ब्रांडों को बाड़मेर में मेघवाल समुदाय की महिलाओं से अपनी सामग्री का एक बड़ा हिस्सा मिलता है।
 
लता ने उन दिनों के बारे में भी बात की, जब उन्होंने विपरीत परिस्थिति में काम शुरू किया था। पुराने दिनों की बातों को याद करते हुए लता कहती हैं, "बाड़मेर में परिस्थितियां उस समय कठिन थीं, जब मैं यहां आई थी। यहां सड़कें नहीं थीं और दूरदराज के इलाकों में परिवहन और संचार एक चुनौती थी। सबसे बड़ी समस्या पानी की कमी थी।"
 
उन्होंने बताया कि जो महिलाएं अपनी कढ़ाई कला के साथ विभिन्न उत्पाद बनाने का काम भी कर रही थीं, उन्हें बिचौलियों की वजह से वह लाभ नहीं मिल पा रहा था, जिसकी वह हकदार थीं। इनमें से ज्यादातर महिलाएं कशीदाकारी कढ़ाई में निपुण हैं और मेघवाल समुदाय से हैं, जिनके परिवार 1971 के भारत-पाक युद्ध के बाद यहां आकर बस गए थे।
 
1994 में लता ने राष्ट्रीय फैशन डिजाइन संस्थान, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी और दस्तकार के डिजाइनरों से हाथ मिलाया और समय के फैशन ट्रेंड के अनुसार 250 से अधिक डिजाइन विकसित किए। वे कहती हैं, "1994 में हम इन महिलाओं को दिल्ली हाट ले गए, जो उनकी पहली ट्रेन की सवारी थी और उनके अनुभव ने हमें और बड़ी पहल करने के लिए प्रोत्साहित किया।"
 
ये भी पढ़ें
छत्तीसगढ़ नक्सली हमला: जम्मू के राकेश्वर सिंह मनहास लापता, परिवार ने की प्रधानमंत्री मोदी से भावुक अपील