जो बिडेन और कमला हैरिस 'टाइम' पत्रिका के 'पर्सन ऑफ द ईयर'

DW| Last Updated: शनिवार, 12 दिसंबर 2020 (16:37 IST)
अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति चुनी गईं को 'टाइम' मैगजीन ने 2020 के 'पर्सन ऑफ द ईयर' के तौर पर चुना है। 'पर्सन ऑफ द ईयर' के अन्य फाइनलिस्ट में स्वास्थ्यकर्मी और डॉ. फाउची भी शामिल थे।
अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बिडेन और उपराष्ट्रपति पद के लिए चुनी गईं कमला हैरिस को 'टाइम' मैगजीन ने 2020 का 'पर्सन ऑफ द ईयर' चुना है। 'टाइम' 'पर्सन ऑफ द ईयर' की रेस में अग्रिम पंक्ति के स्वास्थ्य कर्मचारी और जाने-माने संक्रामक रोग विशेषज्ञ डॉ. एंथनी फाउची, नस्लीय न्याय आंदोलन और राष्ट्रपति डोनेाल्ड ट्रंप शामिल थे। 3 नवंबर 2020 को अमेरिका में हुए राष्ट्रपति चुनाव में बिडेन ने ट्रंप को हराया।
'टाइम' के प्रमुख संपादक एडवर्ड फेल्सन्थल ने कहा कि फ्रैंक्लिन डी. रुजवेल्ट के बाद से निर्वाचित राष्ट्रपति अपने कार्यकाल के दौरान किसी-न-किसी वजह से 'पर्सन ऑफ द ईयर' चुना जाता है। इस बार हमने पहली बार उपराष्ट्रपति को भी 'पर्सन ऑफ द ईयर' चुना है। उन्होंने कहा कि बिडेन और हैरिस की जोड़ी कुछ ऐतिहासिक प्रतिनिधित्व करती है।

अमेरिकी मैगजीन ने दोनों की तस्वीरों के साथ कवर पेज पर लिखा, 'अमेरिकी कहानी में बदलाव के लिए।' मैगजीन ने लिखा कि 'वे अलग-अलग तटों, अलग-अलग विचारधाराओं, अलग-अलग इलाकों से आते हैं, लेकिन उनमें बहुत कुछ सामान्य है।' स्वीडिश युवा पर्यावरण कार्यकर्ता ग्रेटा थुनबर्ग को पिछले साल 'पर्सन ऑफ द ईयर' चुना गया था और साल 2016 में ट्रंप 'पर्सन ऑफ द ईयर' चुने गए थे। 'टाइम' मैगजीन ने 1929 में साल के सबसे प्रभावशाली व्यक्ति को 'पर्सन ऑफ द ईयर' के रूप में चुने जाने की परंपरा शुरू की थी। दुनिया पर प्रभाव डालने व्यक्ति को मैगजीन हर साल 'पर्सन ऑफ द ईयर' चुनती है।
'गॉर्डियन ऑफ द ईयर'

मैगजीन ने अग्रिम पंक्ति के स्वास्थ्य कर्मचारियों और डॉ. एंथनी फाउची को 'गॉर्डियंस ऑफ द ईयर' की भूमिका के लिए नामित किया, जो उन्होंने कोरोनावायरस महामारी से निपटने में निभाई थी। मैगजीन ने दुनियाभर के स्वास्थ्य कर्मचारियों को सम्मानित किया जिन्होंने 'मानवता का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया- नि:स्वार्थता, करुणा, सहनशक्ति और साहस की रक्षा करने का काम किया।'
मैगजीन ने अग्रिम पंक्ति के स्वास्थ्य कर्मचारियों के लिए लिखा कि 'अपने कार्यस्थल पर आने वाले अजनबियों के लिए हर दिन अपने जीवन को जोखिम में डालकर उन्होंने इलाज और लोकतंत्र के साथ समानता का मूलभूत सिद्धांत बनाए रखा।'

एए/सीके (रॉयटर्स)



और भी पढ़ें :