बाइडन ने अमेरिका में गोलीबारी की घटनाओं को बताया 'अंतरराष्ट्रीय शर्मिंदगी'

DW| Last Updated: शुक्रवार, 9 अप्रैल 2021 (17:14 IST)
अमेरिकी राष्ट्रपति ने हिंसा को 'सार्वजनिक स्वास्थ्य संकट' बताया है जिसकी कीमत देश को हर साल अरबों डॉलर के रूप में चुकानी पड़ती है। उन्होंने कहा कि उनका प्रशासन 'बदलाव के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध है।
अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने गुरुवार को 6 कार्यकारी कदमों की घोषणा की, जो उनका प्रशासन देश में दशकों से चली आ रही बंदूक हिंसा की महामारी से लड़ने के लिए अपनाएगा। बाइडन ने बंदूक से होने वाली हिंसा को एक 'राष्ट्रीय स्वास्थ्य संकट' बताया जिसकी कीमत अमेरिका को न केवल अपने नागरिकों की जान की कीमत चुकाकर अदा करनी पड़ती है बल्कि हर साल अनुमानित 280 अरब डॉलर का नुकसान भी उठाना पड़ता है। व्हाइट हाउस में प्रेस कॉन्फ्रेंस में बाइडन ने कहा कि यह एक महामारी है, ईश्वर की खातिर इसे रोकना होगा। व्हाइट हाउस के रोज गार्डन कार्यक्रम में उप राष्ट्रपति कमला हैरिस और अटॉर्नी जनरल मेरिका गारलैंड भी मौजूद थे।
बंदूकों पर नियंत्रण को लेकर बाइडन की घोषणाएं

बाइडन ने बंदूक से होने वाली हिंसा के पीड़ितों और उनके परिवार के सदस्यों को उनके साहस के लिए धन्यवाद किया। उन्होंने लोगों से समस्या से निपटने का वादा किया। कार्यक्रम में उपस्थित लोगों से बाइडन ने कहा कि राष्ट्रपति के रूप में उनकी जिम्मेदारी है कि वे कार्यवाई करे और वह इस समस्या से निपटने के लिए अपनी शक्ति का भरपूर इस्तेमाल करेंगे, चाहे कांग्रेस ना भी करे तो।
राष्ट्रपति ने 6 कार्यकारी आदेशों की एक सूची पेश की जिसपर वह तुरंत हस्ताक्षर करेंगे। उनके मुताबिक कार्यकारी आदेश जिन मुद्दों को संबोधित करेंगे वे हैं- 'घोस्ट गन्स', बाइडन ने कहा कि घर पर असेंबली गन किट खरीदने वाले व्यक्तियों को पृष्ठभूमि की जांच से गुजरना होगा और साथ ही निर्माताओं को सीरियल नंबरों के साथ प्रमुख घटकों को चिह्नित करने की जरूरत होगी ताकि इनका पता लगाया जा सके। फिलहाल इसके लिए देश में कोई नहीं था।
वार्षिक आपराधिक बंदूक तस्करी की रिपोर्ट भी तैयार की जाएगी, पिछली बार यह रिपोर्ट 20 साल पहले बनाई गई थी। बंदूक में बदलाव के लिए आवेदन करना होगा। कई लोग बंदूक को और अधिक घातक बनाते हैं, अब इसके लिए बंदूक मालिक को अधिकारियों को आवेदन देना होगा। बाइडन ने सख्ती दिखाते हुए अमेरिकी न्याय विभाग को बंदूक संस्कृति पर नियंत्रण के लिए रेड फ्लैग कानून लागू करने के लिए 60 दिन की समयसीमा दी है।
इस मौके पर कमला हैरिस ने कहा कि हम जितना सहन कर सकते हैं उससे अधिक त्रासदी हमने झेली है। लोग कार्रवाई चाहते हैं। इसलिए जो कुछ बचा है वह कार्य करने की इच्छा और साहस है।

इस बीच बाइडन की तरफ से नए कदमों की घोषणा के कुछ ही घंटों बाद गुरुवार को टेक्‍सास राज्‍य के ब्रायन इलाके में एक कंपनी पर हुए हमले में एक व्‍यक्ति की हो गई और 5 अन्‍य घायल हो गए। तलाशी के दौरान एक पुलिसकर्मी को गोली लगी है। इसके बाद संदिग्‍ध हमलावर को हिरासत में ले लिया गया। अमेरिका में हर साल करीब 40,000 लोग गोलीबारी में मारे जाते हैं। कई बार लोग अपनी जान अपनी ही बंदूक से लेते हैं।
एए/सीके (एएफपी, रॉयटर्स)



और भी पढ़ें :