विराट कोहली बोले, आत्ममुग्धता से बचना चाहते थे...

Last Updated: शुक्रवार, 1 सितम्बर 2017 (00:40 IST)
कोलंबो। श्रृंखला पहले ही जीत लेने के बाद भारत ने चौथे एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच में भी श्रीलंका पर कोई रहम नहीं किया और 168 रन की जीत के बाद कप्तान विराट कोहली ने कहा कि वे मैच के दौरान कभी भी आत्ममुग्धता का शिकार नहीं होना चाहते थे।

भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए कोहली (131) और रोहित शर्मा (104) के बीच दूसरे विकेट की 219 रन की साझेदारी की बदौलत पांच विकेट पर 375 रन बनाए। इसके जवाब में श्रीलंका की टीम 42.4 ओवर में 207 रन ही बना सकी।

कोहली ने मैच के बाद कहा, हमने मैच के दौरान किसी भी समय आत्ममुग्धता का शिकार नहीं होने के संदर्भ में बात की थी। आज का प्रदर्शन शानदार रहा। भारतीय कप्तान ने कहा, हम पहले बल्लेबाजी करना चाहते थे क्योंकि हमने तीन मैचों में पहले बल्लेबाजी नहीं की। पिच बेहतरीन थी। टास जीतना अच्छा रहा।

पांचवें और अंतिम मैच के प्रयोग के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा, आज हमने तीन नए खिलाड़ियों को मौका दिया। उन्हें एक और मौका मिलेगा। बल्लेबाजी क्रम मैच की स्थिति पर निर्भर करेगा। इस मैच के श्रीलंका की कप्तान कर रहे लसिथ मलिंगा ने 300 वनडे विकेट की व्यक्तिगत उपलब्धि हासिल की।

मलिंगा ने कहा, 300 विकेट सिर्फ एक संख्‍या है। मैं खुश हूं। लेकिन हम हार गए जो दुर्भाग्यशाली है। यह आसान नहीं था। पिछले पांच मैचों में हम 250 रन नहीं बना पाए। युवा खिलाड़ी अच्छा प्रदर्शन करना चाहते हैं। वे सभी रोमांचित हैं लेकिन हम अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन नहीं कर पाए हैं। उन्हें अनुभव की जरूरत है। उम्मीद करते हैं वे अगले कुछ मैचों में अच्छा प्रदर्शन करेंगे। (भाषा)



और भी पढ़ें :