14 दिनों के लिए सामाजिक दायरे से दूर रहे स्वदेश लौटे दक्षिण अफ्रीकी खिलाड़ी

Last Updated: गुरुवार, 19 मार्च 2020 (07:26 IST)
जोहानसबर्ग। दक्षिण अफ्रीका के क्रिकेटरों से कहा गया है कि से स्वदेश लौटने पर वे सरकारी नियमों के अनुसार खुद को अलग-थलग कर लें ताकि किसी भी तरह का लक्षण होने पर उनका बचाव किया जा सके।

दुनियाभर में जब कोरोना का खतरा अपने पांव पसार रहा था तब दक्षिण अफ्रीका की टी3 वनडे मैचों की सीरीज खेलने भारत दौरे पर आ गई। धर्मशाला में पहला वनडे बारिश के धुल गया और उसके बाद कहा गया कि दूसरा और तीसरा वनडे दर्शकों के बिना खेला जाएगा लेकिन कोरोना के खतरे को देखते हुए लखनऊ और कोलकाता के अंतिम दो वनडे रद्द कर दिए गए और दोनों देशों के बोर्डों ने इस सीरीज को बाद में खेलने पर सहमति जता दी।

क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ शुएब मांजरा ने दक्षिण अफ्रीकी टीम को लेकर कहा कि भारत दौरे से पहले इस बात का आकलन लिया गया था कि भारत का दौरा करना सुरक्षित रहेगा या नहीं। उस समय भारत में कोरोना के 30 मामले थे और सीरीज के मेजबान शहरों में कोरोना का कोई मामला नहीं था।

उन्होंने कहा, 'उस समय हमें लगा कि खतरा कम है और हम आवश्यक सावधानी के साथ दौरे पर जा सकते हैं। लेकिन भारत दौरे के दौरान दुनियाभर में तेजी से हालात बदले और यह महामारी पूर्व से पश्चिम की तरफ बढ़ गई जहां यूरोप इसका एक बड़ा केंद्र बन गया। अमेरिका प्रभावित हुआ, विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इसे वैश्विक महामारी घोषित किया और देशों ने अपनी सीमाओं को बंद कर दिया।'

डॉ मांजरा ने कहा, 'चूंकि हम भारत में थे और हमें कई परिस्थितियों को देखना था। भारत में कम खतरा था और दक्षिण अफ्रीका भी कम खतरे के क्षेत्र में था जबकि यूरोप और अमेरिका में यह बीमारी तेजी से बढ़ रही थी। दक्षिण अफ्रीका भी अपनी सीमाएं बंद कर सकता था और तब पूरी टीम को भारत में ही रुकना पड़ जाता। हमने यह सुनिश्चित किया कि भारत में खिलाड़ी अपने होटलों में पूरी तरह अलग-थलग रहें और उनकी स्वास्थ्य सुरक्षा का पूरी तरह ध्यान रखा जाए।'

उन्होंने कहा, 'हमने सभी खिलाड़ियों को कहा है कि वह स्वदेश वापसी पर खुद को पूरी तरह अलग-थलग रखें और कम से कम 14 दिनों के लिए सामाजिक दायरे से दूरी बनाए रखें। इससे उन्हें खुद को, अपने आसपास के लोगों को, समुदाय और अपने परिवारों को सुरक्षित रखने में मदद मिलेगी। यदि किसी को कोई लक्षण दिखाई देता है तो उसकी पूरी चिकित्सा जांच की जाएगी।'


और भी पढ़ें :