जयदेव उनादकट के 7 विकेट ने सौराष्ट्र को Ranji Trophy के फाइनल में पहुंचाया, अब बंगाल से टक्कर

Jaydev Unadkat
Last Updated: बुधवार, 4 मार्च 2020 (20:03 IST)
राजकोट। कप्तान और बाएं हाथ के तेज गेंदबाज (56 रन पर 7 विकेट) की घातक गेंदबाजी के दम पर ने को पांचवें और अंतिम दिन बुधवार को 92 रन से हराकर लगातार दूसरे वर्ष रणजी ट्रॉफी (Ranji Trophy) के में प्रवेश कर लिया, जहां उसका मुकाबला 13 साल बाद फाइनल में पहुंचे बंगाल से 9 मार्च से में होगा।
सौराष्ट्र ने रणजी ट्रॉफी में गुजरात के सामने 327 रन का मुश्किल लक्ष्य रखा था और गुजरात ने सुबह एक विकेट पर 7 रन अपनी पारी को आगे बढ़ाया। उसे मैच के अंतिम दिन जीत के लिए 320 रन की जरुरत है। पहले दो सत्रों में रोमांचक मुकाबला हुआ लेकिन उनादकट ने अंतिम सत्र में गुजरात को समेट दिया। उनादकट ने 3.2 ओवर की घातक गेंदबाजी में चार विकेट निकाल कर गुजरात की उम्मीदों को ध्वस्त कर दिया।
गुजरात की टीम पांच विकेट पर 221 रन से 234 रन पर सिमट गई। उनादकट ने 22.2 ओवर में 56 रन पर 7 विकेट लिए और मैच में 10 विकेट भी पूरे किए। उन्होंने पहली पारी में 86 रन पर 3 विकेट लिए थे।

सौराष्ट्र की दूसरी पारी में 139 रन बनाने वाले अर्पित वास्वदा को 'प्लेयर ऑफ द मैच' का पुरस्कार मिला। वास्वदा ने यह पारी ऐसे समय खेली थी जब सौराष्ट्र ने अपने पांच विकेट मात्र 15 रन पर गंवा दिए थे। उनकी इस पारी से सौराष्ट्र दूसरी पारी में 274 रन तक पहुंच सका और गुजरात के सामने चुनौतीपूर्ण लक्ष्य रख सका।
सौराष्ट्र पिछले आठ सत्रों में चौथी बार फाइनल में पहुंचा है। फाइनल की उसकी विपक्षी टीम बंगाल 13 साल के लम्बे अंतराल के बाद फाइनल में पहुंची है, हालांकि यह बंगाल का ओवरआल 14वां फाइनल है।
बाएं हाथ के तेज गेंदबाज उनादकट ने इस सत्र में अपने विकेटों की संख्या 65 पहुंचा दी है और किसी तेज गेंदबाज के एक रणजी सत्र में यह सर्वाधिक विकेट हैं। उन्होंने डोडा गणेश के 1998-99 के 62 विकेट के रिकॉर्ड को पीछे छोड़ा।

उनादकट ने लेफ्ट आर्म स्पिनर बिशन सिंह बेदी के एक सत्र में 64 विकेट लेने को पीछे छोड़ा और आल टाइम सूची में दूसरे स्थान पर पहुंच गए।एक रणजी सत्र में सर्वाधिक विकेट लेने का रिकॉर्ड आशुतोष अमन के नाम है जो पिछले सत्र में बिहार के लिए प्लेट ग्रुप में खेले थे और उन्होंने 68 विकेट लेकर बेदी का रिकॉर्ड तोड़ा था। उनादकट के 65 विकेट एलीट ग्रुप में किसी गेंदबाज के सर्वाधिक विकेट हैं और अब उनके पास फाइनल में आशुतोष अमन को पीछे छोड़ने का मौका रहेगा।
गुजरात को सुबह पहले सत्र लगातार झटके लगे और उसका स्कोर 5 विकेट पर 63 रन हो गया। उनादकट ने समित गोहेल (5) और ध्रुव रावल (5) को आउट किया जबकि प्रेरक मांकड़ ने भार्गव मेरई (14) और चिराग जानी ने रुजूल भट्ट (1) को पैवेलियन भेजा।

5 विकेट गिर जाने के बाद कप्तान पार्थिव पटेल और चिराग गांधी ने मोर्चा संभाला और सौराष्ट्र पर जवाबी हमला बोल दिया। दोनों ने छठे विकेट के लिए 158 रन की साझेदारी कर डाली। लेकिन उनादकट ने पटेल को आउट कर जैसे ही इस साझेदारी को तोड़ा गुजरात को समर्पण करने में ज्यादा समय नहीं लगा।
पार्थिव 148 गेंदों में 13 चौकों की मदद से 93 रन बनाकर टीम के 221 के स्कोर पर आउट हुए। उनादकट ने अगली गेंद पर अक्षर पटेल का भी शिकार कर लिया। धर्मेंद्रसिंह जडेजा ने रश कलारिया (1) को आउट किया। जडेजा ने गांधी को बोल्ड कर उन्हें भी शतक से वंचित कर दिया। गांधी ने 139 गेंदों में 16 चौकों की मदद से 96 रन बनाए।

उनादकट ने अर्जन नागवसवाला को आउट कर गुजरात की पारी 234 रन पर समेट दी। उनादकट के 7 विकेट के अलावा जडेजा, जानी और मांकड ने एक-एक विकेट लिया।
संक्षिप्त स्कोर :
सौराष्ट्र : 304 और 274 रन
गुजरात : 252 और 234 रन




और भी पढ़ें :