IND vs NZ 3rd ODI : टीम इंडिया के इस खिलाड़ी को वनडे सीरीज हारने का कोई अफसोस नहीं...

पुनः संशोधित मंगलवार, 11 फ़रवरी 2020 (21:08 IST)
माउंट मोनगानुई। भारतीय क्रिकेट टीम के लेग स्पिनर ने मंगलवार को के खिलाफ क्लीनस्वीप को अधिक तवज्जो नहीं देते हुए कहा कि पिछले 5 साल में के प्रदर्शन में इतनी अधिक निरंतरता है कि एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय सीरीज में हार चिंताजनक नहीं है। न्यूजीलैंड ने मंगलवार को यहां तीसरा वनडे मैच 5 विकेट से जीतकर 3-0 से क्लीनस्वीप किया।

चहल ने मैच के बाद कहा, ‘कुल मिलाकर अगर आप देखो तो पिछले 4-5 साल में हमने सिर्फ चौथी या पांचवीं सीरीज गंवाई है। दूसरी टीम भी खेलती है। आप प्रत्येक मैच नहीं जीत सकते। हमने एक सीरीज जीती, दूसरी हार गए, इसलिए यह इतना गंभीर नहीं है कि इस पर मंथन किया जाए।’ चहल ने कहा कि युवा खिलाड़ी न्यूजीलैंड में खेलने के अनुभव से काफी कुछ सीखेंगे।

इस लेग स्पिनर ने कहा, ‘पृथ्वी शॉ और मयंक अग्रवाल टीम में आए, इसलिए युवाओं को भारत के बाहर खेलने का मौका मिला। न्यूजीलैंड में खेलना आसान नहीं होता। लेकिन कुल मिलाकर देखें तो यह सिर्फ एक थी। हमने टी20 सीरीज 5-0 से जीती थी, पहली बार, यह हमारे लिए भी सकारात्मक पक्ष है।’

लोकेश राहुल ने चौथा वनडे शतक जड़ा जबकि श्रेयस अय्यर ने भी अर्द्धशतक जड़ा जिससे भारत ने 7 विकेट पर 296 रन बनाए। चहल ने इन दोनों के प्रयास की सराहना की।

उन्होंने कहा, ‘आप उनके अंदर आत्मविश्वास देख सकते हो। वे 25-26 साल के हैं और परिपक्वता के साथ बल्लेबाजी कर रहे हैं। वे स्थिति को अच्छी तरह समझते हैं। बीच के ओवरों के बल्लेबाजी करना आसान नहीं होगा विशेषकर तब जब स्पिनर गेंदबाजी कर रहे हों। राहुल ने शीर्ष क्रम में भी बल्लेबाजी की है। इसलिए यह परिपक्वता दिखाता है कि उसे पता है कि टीम को क्या जरूरत है।’

चहल ने मेजबान टीम की तारीफ की लेकिन साथ ही कहा कि क्षेत्ररक्षण भारत के लिए चिंता की बात है। उन्होंने कहा, ‘उन्होंने इस सीरीज में असाधारण प्रदर्शन किया। इसलिए हमें इसकी सराहना करनी होगी। कई बार खराब क्षेत्ररक्षण भी हुआ। 10 में से 1 सीरीज में ऐसा होता है, हमारे पास अगली वनडे अंतरराष्ट्रीय सीरीज तक का समय है।’

चहल से जब यह पूछा गया कि विश्व कप के बाद वह और कुलदीप यादव एक साथ नहीं खेले हैं तो उन्होंने कहा, ‘रविंद्र जडेजा शानदार प्रदर्शन कर रहा है, फिर यह बल्लेबाजी हो या गेंदबाजी या क्षेत्ररक्षण। इसलिए आधे मैच मैं खेलता हूं और आधे कुलदीप।’ चहल ने हालांकि कहा कि व्यस्त घरेलू सत्र के बाद 22 दिन में 8 सीमित ओवरों के मैच खेलने का उनकी हार से कोई लेना देना नहीं है।


और भी पढ़ें :