Success story : कबाड़ का काम करने वाले का बेटा बनेगा डॉक्टर, पढ़िए सफलता की कहानी

पुनः संशोधित रविवार, 25 अक्टूबर 2020 (17:05 IST)
कोटा (राजस्थान)। अन्य उम्मीदवारों के विपरीत 26 वर्षीय के लिए में दाखिले के लिए अखिल भारतीय प्रवेश परीक्षा उत्तीर्ण करना बस केवल एक सपना नहीं था, बल्कि उन लोगों को जवाब देने का एक तरीका था जिनके हाथों उसके परिवार ने वर्षों से अपमान झेला।
उत्तरप्रदेश के कुशीनगर जिले के निवासी अरविंद का कहना है कि उसका सपना डॉक्टर बनने का था जबकि कबाड़ी का काम करने वाले उसके पिता भिखारी को अपने काम एवं नाम के चलते लगातार गांववालों से अपमानित होना पड़ता था।

हालांकि यह सफलता इतनी आसानी से नहीं मिली। वे पहली बार 2011 में ऑल इंडिया प्री-मेडिकल टेस्ट (एआईपीएमटी) में शामिल हुआ था जिसके स्थान पर अब राष्ट्रीय अर्हता -सह प्रवेश परीक्षा (नीट) आ गई है।
अरविंद ने कहा कि इस साल नौवें प्रयास में उसे यह सफलता मिली है, उसने अखिल भारतीय स्तर पर 11603 रैंक हासिल किया है और अन्य पिछड़ा वर्ग श्रेणी में उसका रैंक 4,392 है।

उसने कहा कि वह कभी भी मायूस नहीं हुआ। अरविंद ने कहा कि मैं नकारात्मकता को सकारात्मकता में बदलने तथा उससे ऊर्जा एवं प्रेरणा लेने की मंशा रखता हूं।

उसने कहा कि उसकी इस सफलता का श्रेय उसके परिवार, आत्मविश्वास और निरंतर कठिन परिश्रम को जाता है। उसके अनुसार उसके पिता भिखारी कक्षा 5वीं तक पढ़े-लिखे हैं और मां ललिता देवी अनपढ़ हैं।
अरविंद अपने पिता को असामान्य नाम की वजह से अपमानित होते देख बड़ा हुआ। उसके पिता काम के वास्ते परिवार को छोड़कर दो दशक पहले जमशेदपुर के टाटानगर चले गए थे। कुछ साल पहले अपने तीन बच्चों की अच्छी शिक्षा-दीक्षा के लिए भिखारी अपने परिवार को गांव से कुशीनगर शहर ले आए जहां अरविंद ने महज 48.6 फीसद प्राप्तांक से 10वीं कक्षा पास की। 12वीं कक्षा में उसे 60 फीसद अंक मिले और तभी उसके अपने पिता की इच्छा पूरी करने के लिए डॉक्टर बनने का ख्याल आया। (भाषा)



और भी पढ़ें :