रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचे पेट्रोल-डीजल के दाम, जानिए आज की कीमत

Last Updated: सोमवार, 14 जून 2021 (08:04 IST)
नई दिल्ली। तेल विपणन कंपनियों ने सोमवार को पेट्रोल-डीजल के दाम एक बार फिर बढ़ा दिए। इससे पहले रविवार को कीमतों में कोई बदलाव नहीं किया गया था। कीमतों में आज की बढ़ोतरी से दोनों जीवाश्म ईंधन महंगाई के नए शिखर पर पहुंच गए हैं।
राजस्थान के शहर श्रीगंगानगर देश के पहला शहर है, जहां डीजल का रेट 100 रुपए को पार कर गया है।
यहां पेट्रोल भी देश में सबसे महंगा 107.53 रुपए प्रति लीटर बिक रहा है। देश के चार प्रमुख महानगरों में पेट्रोल 29 पैसे तक और डीजल 31 पैसे तक महंगा हुआ। अग्रणी तेल विपणन कंपनी इंडियन ऑईल कॉर्पोरेशन के अनुसार, दिल्ली में पेट्रोल 29 पैसे महंगा होकर 96.41 रुपए और डीजल 30 पैसे महंगा होकर 87.28 रुपए प्रति लीटर पर पहुंच गया। कीमतों में बढ़ोतरी का मौजूदा क्रम 4 मई को शुरू हुआ था।

दिल्ली में मई महीने के दौरान पेट्रोल 3.83 रुपए और डीजल 4.42 रुपए महंगा हुआ था। जून में अब तक पेट्रोल की कीमत 2.18 रुपए और डीजल की कीमत 2.13 रुपये बढ़ चुकी है। बई में पेट्रोल की कीमत 28 पैसे और डीजल की 31 पैसे बढ़ी। वहां एक लीटर पेट्रोल 102.58 रुपये और डीजल 94.70 रुपये का हो गया।

चेन्नई में पेट्रोल 26 पैसे महंगा होकर 97.69 रुपए और डीजल 28 पैसे की बढ़ोतरी के साथ 91.92 रुपये प्रति लीटर के भाव बिका। कोलकाता में पेट्रोल की कीमत 28 पैसे और डीजल की 29 पैसे बढ़ी। वहां पेट्रोल अब 96.34 रुपए और डीजल 90.12 रुपये प्रति लीटर पर पहुंच गया है। पेट्रोल-डीजल के मूल्यों की रोजाना समीक्षा होती है और उसके आधार पर हर दिन सुबह 6 बजे से नई कीमतें लागू की जाती हैं।
कांग्रेस-भाजपा की मिलीभगत : कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी ने ईंधन की कीमतों में वृद्धि के खिलाफ कांग्रेस पार्टी की लड़ाई का मजाक उड़ाते हुए कहा कि उनकी पार्टी जनता दल (एस) पेट्रोल को जीएसटी (वस्तु एवं सेवा कर) के अंतर्गत लाने की कांग्रेस और भाजपा की कथित साजिश के खिलाफ लड़ेगी।

जनता दल (एस) के दूसरे नंबर के नेता ने कई ट्वीट कर कहा कि केन्द्र सरकार लगातार पेट्रोल की कीमतों में वृद्धि कर रही है, जिसके खिलाफ कांग्रेस प्रदर्शन कर रही है। कुमारस्वामी ने टि्वटर पर लिखा कि हमने पेट्रोल को जीएसटी के दायरे में लाने की दोनों राष्ट्रीय पार्टियों की साजिश के खिलाफ लड़ने का रुख अपनाया है। इसके खिलाफ हम संघर्ष करेंगे। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार लगातार यह कह रही है कि पेट्रोल की कीमतों में कमी लाने के लिए उसे जीएसटी के दायरे में लाना ही होगा। वहीं कांग्रेस का भी यही मानना है कि पेट्रोल को जीएसटी के दायरे में लाकर इसकी कीमतों में कमी की जा सकती है।



और भी पढ़ें :