यह है श्री हनुमान जी को प्रसन्न करने की शास्त्रोक्त विधि और मंत्र

ज्ञानियों में परम ज्ञानी, दुष्टों के लिए कठोर तथा भक्तों के लिए परम दयालु राम के प्रिय भक्त हनुमानजी, देवों के सेनापति के स्वामी हैं। मंगल को प्रसन्न करने के लिए मंगल के स्वामी रुद्रावतार श्री हनुमानजी की आराधना परम फलदायी है। कहा गया है कि जब स्वामी प्रसन्न हों तो सेवक स्वत: ही प्रसन्न हो जाता है अर्थात् श्री हनुमानजी को प्रसन्न करने से सर्वसुख प्राप्त हो जाता है। साधक निम्नलिखित विधि से मंत्रों का उच्चारण करते हुए ध्यान, पूजन एवं जपादि कम करें। ध्यान रहे- हनुमत् पूजन में लाल रंग प्रधान होता है जैसे लाल वस्त्र, लाल पुष्प, सिंदूर आदि। श्री हनुमानजी को सिंदूर अवश्य चढ़ाएं।
 
विनियोग
 
ॐ अस्य श्री हनुमत्कवचोस्तोत्र
मंत्रस्य श्री रामचन्द्र ऋषि:,
अनुष्टुपछन्द:, श्री महावीरो हनुमान
देवता, मरुतात्मज इति बीजम्,
ॐ अन्जनी सुनुरिति शाक्ति:,
ॐ ह्रैं ह्रां ह्रौं कवचम्
ॐ फट् स्वाहा कीलकम्,
लक्ष्‍मण प्राणदाता बीजम्,
सकलकार्य सिद्धयर्थे जपे विनियोग:।
मंत्र- ॐ ऐं श्रीं ह्रां ह्रों ह्रूं ह्रैं ह्रं
 
करन्यास
अब निम्नलिखित विधि से करन्यास करें:-
 
ॐ ह्रां अंगुष्ठाभ्यां नम:।
-अपने अंगूठों को नमस्कार करें।
ॐ ह्रीं तर्जनीभ्यां नम:।
-अपनी तर्जनी उंगलियों को नमस्कार करें।
ॐ ह्रं मध्यमाभ्यां नम:।
-मध्‍यमा उंगलियों को नमस्कार करें।
ॐ ह्रैं अनामिकाभ्यां नम:।
-अनामिका उंगलियों को नमस्कार।
ॐ ह्रौं कनिष्ठिकाभ्यां नम:।
-छोटी उंगलियों को नमस्कार।
ॐ ह्रं करतलकर पृष्ठाभ्यां नम:।
- हथेलियों के पृष्ठ भाग को परस्पर मिलाकर नमस्कार करें।
 
हृदयादिन्यास
 
ॐ अंजनीसूतवे हृदयाय नम:।>  
-हृदय स्पर्श करें।>  
-ॐ रूद्र मूर्तये शिरसे स्वाहा।  
-दाएं हाथ की उंगलियों से सिर का स्पर्श करें।
 
ॐ वायुसुतात्मने शिखायै वषट्‍।
 
-शिखा (चोटी) को स्पर्श करें।
 
ॐ वज्रदेहाय कवचम् हुं।
 
-दोनों भुजाओं का स्पर्श करें।
 
ॐ रामदूताय नेत्रत्रयाय वौषट्‍।
 
-दोनों नेत्रों के बीच स्पर्श करें (तीसरे नेत्र को)
 
ॐ ब्रह्मास्त्र निवारणाय अस्त्राय फट् स्वाहा।
 
-ॐ ब्रह्मास्त्र को लौटा देने वाले कहकर उनका आवाहन करें।
 
रामदूताय विद्महे कपिराजाय धीमहि।
 
-हम श्री रामचन्द्रजी के विद्यामान होने का अनुभव करते हैं और वानरराज हनुमान का ध्यान करते हैं।
तन्नोहनुमान प्रचोदयात् ॐ हुं फट्‍।
 
-चारों ओर चुटकी बजाते हुए दिशाओं को कवच से रक्षित करें।



और भी पढ़ें :