अमेरिकी चुनाव को लेकर बार-बार झूठ बोल रहे हैं डोनाल्ड ट्रंप

Last Updated: रविवार, 6 दिसंबर 2020 (10:21 IST)
वाशिंगटन। अमेरिकी राष्ट्रपति की चुनाव के बाद की राजनीतिक रैली निराधार शिकायतों और खारिज की जा चुकी साजिशों की कहानियों से पटी रही। इसमें उन्होंने खुद को का विजेता भी घोषित किया जिसमें वह निश्चित रूप से हार चुके हैं।
वलदोस्ता, जॉर्जिया में ट्रंप ने शनिवार को अनेक बातें कहीं। उन्होंने नवनिर्वाचित राष्ट्रपति के पक्ष में पड़े आठ करोड़ मतों पर संदेह जाहिर किया और कहा, ‘जब उन्होंने इंटरनेट पर ‘थैंक्सगिविंग’ भाषण दिया तब बताते हैं कि उसे एक हजार से भी कम लोगों ने देखा...जब आपको एक हजार से भी कम लोग सुन-देख रहे हैं तो आठ करोड़ मत कैसे पड़े?’ हालांकि तथ्य यह है कि बिडेन के ‘थैंक्सगिविंग’ भाषण को लाखों लोगों ने देखा और सुना।
दरअसल किसी व्यक्ति ने सीधे प्रसारित भाषण को किसी एक वक्त पर देखे जाने वाले लोगों की संख्या का स्क्रीनशॉट ट्विटर पर पोस्ट किया था जिसके बाद एक हजार से भी कम लोगों द्वारा बाइडन का भाषण सुनने का फर्जी दावा किया गया।

बिडेन के भाषण का उनके आधिकारिक फेसबुक पेज पर जो वीडियो था, उसे 5,40,000 से अधिक लोगों ने देखा। इसके अलावा एनबीसी तथा एबीसी के यूट्यूब चैनलों तथा कई अन्य वेबसाइटों पर इसे लाखों लोगों ने देखा।
इसके अलावा ट्रंप ने दावा किया कि वह चुनाव जीत रहे हैं जबकि तथ्य यह है कि अब यह स्पष्ट हो चुका है कि वह यह चुनाव हार चुके हैं। उन्होंने देश में हुए शीर्ष पद के चुनाव में जॉर्जिया में जीत का फिर झूठा दावा किया।

ट्रंप ने रिपब्लिकन सीनेटरों केली लोएफलर और डेविड परड्यू के लिए जॉर्जिया में प्रचार करते हुए झूठा दावा किया कि उन्होंने राष्ट्रपति पद के चुनाव में राज्य में जीत हासिल की है।
उन्होंने राष्ट्रपति पद के लिए हुए चुनाव के बाद पहली रैली में कहा, ‘हमें पता है कि हमने जॉर्जिया में जीत हासिल की है। यह बात आप समझते हैं।‘

वास्तविकता में अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बिडेन ने करीब 12,500 मतों के अंतर से जॉर्जिया में चुनाव जीता था। (भाषा)



और भी पढ़ें :