होली के 4 प्रचलित लोकगीत - अवध में होली खेलैं रघुवीरा

होली का पर्व रंग-उमंग, मौज-मस्ती, ढोल-ढमाके, गीत-संगीत और खुल कर जीने का होता है। बरसों से होली के अवसर पर लोकगीतों की महफिल सजती आई है। प्रस्तुत है होली के सबसे ज्यादा प्रचलित रसीले लोकगीत ... 
 
अवध में होली खेलैं रघुवीरा।
 
ओ केकरे हाथ ढोलक भल सोहै,
 
केकरे हाथे मंजीरा।
 
राम के हाथ ढोलक भल सोहै,
 
लछिमन हाथे मंजीरा।
 
ए केकरे हाथ कनक पिचकारी
 
ए केकरे हाथे अबीरा।
 
ए भरत के हाथ कनक
 
पिचकारी शत्रुघन हाथे अबीरा।
2. होरी खेलैं राम मिथिलापुर मां
 
मिथिलापुर एक नारि सयानी,
 
सीख देइ सब सखियन का,
 
बहुरि न राम जनकपुर अइहैं,
 
न हम जाब अवधपुर का।।
 
जब सिय साजि समाज चली,
 
लाखौं पिचकारी लै कर मां।
 
मुख मोरि दिहेउ, पग ढील
 
दिहेउ प्रभु बइठौ जाय सिंघासन मां।।
 
हम तौ ठहरी जनकनंदिनी,
 
तुम अवधेश कुमारन मां।
 
सागर काटि सरित लै अउबे,
 
घोरब रंग जहाजन मां।।
 
भरि पिचकारी रंग चलउबै,
 
बूंद परै जस सावन मां।
 
केसर कुसुम, अरगजा चंदन,
 
बोरि दिअब यक्कै पल मां।।
 



और भी पढ़ें :