आपने ‘थाइम’ का नाम नहीं सुना होगा, लेकिन ‘इलाज’ में यह किसी ‘वरदान’ से कम नहीं

Thyme
थाइम। हो सकता है यह नाम आपने न सुना हो। लेकिन कई तरह की बीमारियों में इसके फायदे किसी वरदान से कम नहीं है। दरअसल यह एक जड़ी बूटी है। जिस तरह से आप इसके नाम के बारे में नहीं जानते ठीक उसी तरह से इसके फायदे के बारे में भी आप नहीं जानते होंगे।

आइए बताते है कि क्‍या होती है थाइम और किन बीमारियों में आती है काम।

दरअसल, किसी जमाने में मिस्र और यूनान के लोग इसका उपयोग करते थे। वे थाइम की पत्तियों पर मिस्र के लोग शव रखते थे और यूनान के लोग अपने मंदिरो में धुप और सुगंधित करने के लिए उपयोग करते थे।
लेकिन अब इसका उपयोग औषधीय बनाने में और भोजन का स्वाद बढ़ाने के लिए किया जाता है।

कई लोग ग्रीन टी की जगह थाइम की चाय पीना पसंद करते है। वहीं बीमारियों से बचाव करने के लिए थाइम का उपयोग काढ़े के रूप में किया जाता है।

थाइम में अच्छी मात्रा में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेड, मैग्नीशियम, पोटैशियम, आयरन, कैल्शियम, सोडियम, विटामिन सी, विटामिन ए मौजूद होता है। इसके अलावा एंटीऑक्सीडेंट होता है जो बीमारियों से बचाव करने में मदद करता है।

थाइम के उपयोग?
थाइम का उपयोग सुप के स्वाद को बढ़ाने के लिए किया जाता है ताकि सुप पोषक हो सके। इसका रस बनाकर उपयोग किया जाता है। थाइम के तेल का उपयोग भी किया जाता है। कई लोग थाइम का उपयोग सलाद के साथ करते है।

इम्‍यूनिटी
रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में थाइम एक अच्छी जड़ीबूटी मानी जाती है। इसमें प्रचुर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट, विटामिन सी होता है जो रोगो से लड़ने की शक्ति को बढ़ाता है ताकि बीमारियों से बचाव हो सके।

दिल
हृदय के स्वस्थ्य रखने में थाइम बहुत उपयोगी माना जाता है। थाइम में अच्छी मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट व पोटेशियम होता है जो रक्तचाप को कम कर रक्तवाहिकाओं को राहत दिलाता है और तनाव से मुक्त करता है। तनाव मुक्त रहने पर व्यक्ति को दिल का दौरा, स्ट्रोक व हृदय से जुडी समस्या का सामना नहीं करना पड़ता है। यदि आप हृदय का स्वास्थ्य अच्छा करना चाहते है तो थाइम का उपयोग करे, लेकिन चिकिस्तक की परामर्श से।

ब्रि‍दिंग प्रॉब्‍लम
अस्थमा से पीड़ित लोगों के लिए थाइम का उपयोग लाभकारी होता है। कुछ शोध के अनुसार सर्दी खासी या मौसमी फ्लू जैसी बीमारियों से बचाव करने में थाइम जड़ीबूटी दवा के रूप में काम करता है। इसमें कुछ ऐसे गुण है जो कफ को बाहर निकाल देते है और श्वासनली के मार्ग को आसान कर देते है व सांस लेने कठिनाई को दूर करता है। थाइम की पत्तियों को उबालकर पीने से श्वसन संक्रमण को कम किया जा सकता है।

तनाव
तनाव से राहत पहुंचाने में थाइम लाभदायक होता है। ऐसा इसलिए थाइम में कुछ ऐसे विशेष गुण मौजूद होते है जो तनाव को कम करते है और स्ट्रेस हार्मोन पर प्रभाव डालते है। कुछ अध्ययन के अनुसार रोजाना थाइम का उपयोग भोजन के साथ करने से तनाव की समस्या धीरे-धीरे कम होने लगती है।



और भी पढ़ें :