Viral और Flu की चपेट में आने पर तुरंत आजमाएं ये 5 आसान घरेलू उपचार



कोरोना वायरस का कहर अभी पूरी तरह से खत्म नहीं हुआ है। विशेषज्ञों द्वारा लगातार तीसरे लहर की संभावना जताई जा रही है। लेकिन इस बीच सीजनल बुखार और वायरल भी
काफी लोगों में फैल रहा है। इस मौसम में लोगों की प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है। इसलिए जल्दी सर्दी, खांसी, जुकाम और फ्लू की चपेट में आ जाते हैं। इस मौसम में बच्चे और
बुजुर्ग बहुत अधिक बीमार पड़ते हैं। ऐसे में सावधानी रखने की जरूरत है, और डाइट में बदलाव की जरूरत होती है ताकि वायरल इंफेक्‍शन नहीं हो।


लेकिन वायरल, सर्दी-जुकाम होना भी खतरे की घंटी लगती है। क्योंकि वायरस और बहुत हद तक मिलते-जुलते हैं। अगर एक दिन भी सर्दी-खांसी जुकाम और
बुखार होने पर लापरवाही नहीं करें। साथ ही आप जल्दी बीमार पड़ते हैं तो घरेलू नुस्खे आजमाते रहें।


सीजनल फ्लू के लक्षण

-बुखार
-कंपकंपी होना
-ठंड लगकर बुखार आना
-नाक बंद होना
-गले दुखना
-हाथ पैर में दर्द होना
-मांसपेशियों में खिंचाव होना

यह लक्षण कोविड-19 से मिलते-जुलते हैं। इसलिए तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। और पूरी तरह से ठीक नहीं होने तक अपना उपचार जारी रखें।

सीजनल फ्लू से बचाव के घरेलू नुस्‍खें

1. हल्दी वाला दूध पीएं - सर्दी-खांसी लगातार बनी हुई है तो हमेशा की तरह हल्दी वाला दूध पीकर सो जाएं। इसमें मौजूद गुण इम्‍यून सिस्‍टम को मजबूत करते हैं और हल्दीएंटीबायोटिक का काम करती है। रोज रात को आधा गिलास हल्दी का दूध पीकर सोएं।

2.शहद और काली मिर्च - अगर आप कफ और खांसी से परेशान हो गए है तो शहद और काली मिर्च को 1 चम्‍मच में मिक्‍स कर लें और खाकर सो जाएं।
ध्‍यान रहे इसे खाने के
बाद पानी भी नहीं पीना है और कुछ खाना भी नहीं है। दरअसल, शहद की तासीर गर्म होती है, और काली मिर्च की भी। यह शरीर में नेचुरल गर्मी पैदा करता है।


3. च्यवनप्राश खाएं -च्यवनप्राश में कई सारी जड़ी-बूटियां शामिल होती है। इसका सेवन करने से शरीर का तापमान सामान्य रहता है। जिससे फ्लू और सर्दी जुकाम का खतरा टल जाता हैइसलिए प्रतिदिन दूध के साथ 1 चम्‍मच च्यवनप्राश का सेवन जरूर करना चाहिए। च्यवनप्राश को आयुर्वेद में एक औषधि के रूप में जाना जाता है।

4. भाप लें - बहुत अधिक सर्दी-जुकाम होने पर भाप लेना नहीं भूलें। आप गर्म पानी में कैप्सूल या विक्स डालकर भी भाप लें सकते हैं। इसके बजाय टी ट्री ऑयल,लेमन ग्रास तेल, लौंगका तेल भी डाल सकते हैं। नाक खोलने से सांस लेने में परेशानी नहीं होती और छाती में भी काफी राहत मिलती है।

5.पुदीना और अजवाइन की भाप - अगर आपको बहुत अधिक खांसी या कफ हो रहा है तो आप गर्म पानी में पुदीने की पत्तियां या अजवाइन की पत्तियों की भाप लें। इससे तुरंत
आराम मिलेगा। सर्दी-खांसी होने पर अदरक की चाय पीना नहीं भूलें। और स्वास्थ्य के लिहाज से चाय में शक्कर की जगह गुड़ का इस्तेमाल करें।


Disclaimer: चिकित्सा, स्वास्थ्य संबंधी नुस्खे, योग, धर्म आदि विषयों पर वेबदुनिया में प्रकाशित/प्रसारित वीडियो, आलेख एवं समाचार सिर्फ आपकी जानकारी के लिए हैं। इनसे संबंधित किसी भी प्रयोग से पहले विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।



और भी पढ़ें :