1. चुनाव 2022
  2. गुजरात विधानसभा चुनाव 2022
  3. न्यूज: गुजरात विधानसभा चुनाव 2022
  4. gujarat election results : BJP wins 86 percent seats in Modi home state
Written By
Last Updated: शुक्रवार, 9 दिसंबर 2022 (10:16 IST)

भाजपा ने पहली बार किसी राज्य में जीती 86 फीसदी सीटें, 2 सीटों पर अंतर 2 लाख के करीब

अहमदाबाद। पीएम मोदी और गृहमंत्री अमित शाह की जोड़ी ने गुजरात विधानसभा चुनाव में ऐसा कमाल किया कि राज्य में रिकॉडों का भी रिकॉर्ड बन गया। पार्टी ने न सिर्फ 156 सीटों पर ऐतिहासिक जीत दर्ज की, बल्कि 25 सीटों पर बड़े अंतर से जीत दर्ज पर राज्य में कांग्रेस की नींव ही हिला दी। भाजपा ने पहली बार विधानसभा चुनावों में किसी राज्य में 86 प्रतिशत सीटें जीती। 2 सीटों पर अंतर 2 लाख के करीब रहा।
 
घाटलोडिया से लगातार दूसरे कार्यकाल के लिए जीतने वाले मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी को 1.92 लाख से अधिक मतों से हराया। चोरयासी सीट पर भाजपा के संदीप देसाई ने आप के प्रकाश भाई विनोद भाई कॉन्ट्रेक्टर को 1.86 लाख वोटो से हराया।
 
8 सीट पर भाजपा उम्मीदवारों की जीत का अंतर 1 लाख से 1.5 लाख वोट के बीच रहा। वहीं 39 सीटों पर भाजपा उम्मीदवारों की जीत का अंतर 50 हजार से 1 लाख के बीच रहा।
 
गुजरात में आरक्षण आंदोलन की पृष्ठभूमि में 2017 के विधानसभा चुनाव में पाटीदार समुदाय के एक वर्ग ने भाजपा के खिलाफ मतदान किया था। लेकिन अब इस समूह का मतदाता इस चुनाव में सत्तारूढ़ पार्टी की ओर लौट आया है। पार्टी ने 48 पाटीदारों को चुनाव मैदान में उतारा था इनमें से 41 जीत गए। वहीं कांग्रेस से 41 में से 3 पाटीदार उम्मीदवार ही जीत हासिल कर सके।
 
सौराष्ट्र क्षेत्र में कांग्रेस ने 2017 में मोरबी, टंकारा, धोराजी और अमरेली की पाटीदार बहुल सीटों पर जीत हासिल की थी। हालांकि, ये सभी विधानसभा क्षेत्र इस बार भाजपा की झोली में गए।
 
सत्तारूढ़ पार्टी पाटीदार आरक्षण आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल को कांग्रेस से अपने पाले में लाई और उन्हें वीरमगाम विधानसभा सीट से मैदान में उतारा, जहां से उन्होंने भारी मतों के अंतर से जीत हासिल की।
 
वहीं, गुजरात विधानसभा चुनाव में ‘नोटा’ के तहत पड़े वोट की हिस्सेदारी 2017 की तुलना में नौ प्रतिशत से अधिक घट गई है, इस बार खेड़ब्रह्मा सीट पर सबसे अधिक 7,331 नोटा वोट पड़े हैं।
 
निर्वाचन आयोग के आंकड़ों के अनुसार राज्य में इस चुनाव में 5,01,202 या 1.5 प्रतिशत वोट नोटा के थे, जो 2017 के विधानसभा चुनावों में 5,51,594 से कम हैं। खेड़ब्रह्मा सीट पर सबसे ज्यादा 7,331 नोटा वोट पड़े, उसके बाद दांता में 5,213 और छोटा उदयपुर में 5,093 वोट पड़े।
Edited by : Nrapendra Gupta 
ये भी पढ़ें
हिमाचल चुनाव में 3 संसदीय क्षेत्रों में भाजपा को झटका, 1 प्रतिशत वोट से 15 सीटों का अंतर