राकेश टिकैत के आंसू से फिर तेज हुआ ‍किसान आंदोलन, BKU नेता नरेश टिकैत का बड़ा बयान

हिमा अग्रवाल| Last Updated: शुक्रवार, 29 जनवरी 2021 (09:23 IST)
हमें फॉलो करें
राकेश टिकैत का रोता हुआ वीडियो जैसे ही वायरल हुआ तो किसानों में हड़कंप मच गया। मुजफ्फरनगर के सिसौली गांव में भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष और बालियान खाप के मुखिया ने एक आपात पंचायत बुलाई है। इस पंचायत में बड़ी संख्या में किसान सिसौली गांव पहुंचे। पंचायत में निर्णय लिया गया है कि शुक्रवार सुबह 11 बजे मुजफ्फरनगर राजकीय इंटर कालेज में विशाल पंचायत करेंगे।
ALSO READ:

दिल्ली हिंसा : लाल किले से गायब हुईं प्राचीन वस्तुएं, क्षतिग्रस्त मिलीं झांकियां...
नरेश टिकैत ने कहा कि किसान और राकेश टिकैत तब तक गिरफ्तारी नहीं देंगे, जब तक जांच न हो जाएं कि 26 जनवरी बवाल का जिम्मेदार कौन है। उन्होंने कहा कि हम किसानों के लिए कुर्बान हो जायेंगे। अब गाजीपुर से धरना नहीं उठेगा, चाहें वहां से लाशें उठ जाएं। पहले कानून वापस हो फिर खत्म होगा धरना। यदि शासन-प्रशासन ने रात में कुछ गड़बड़ी करने की कोशिश की तो यूपी का किसान क्या करेगा इसकी जिम्मेदारी हमारी नहीं होगी।
मुजफ्फरनगर जिले के सिसौली गांव से खबर आ रही थी कि किसान पंचायत के बाद इकट्ठा होकर रात में ही गाज़ीपुर बॉर्डर रवाना हो सकते हैं। मगर भाकियू अध्यक्ष नरेश टिकैत के कल सुबह 11 बजे मुजफ्फरनगर के राजकीय इंटर कालेज में महापंचायत का ऐलान किया है, जिसके बाद पुलिस प्रशासन ने राहत की सांस ली है।
नरेश टिकैत के आह्वान पर किसान रात में धरनास्थल पर रवाना होते तो गाजियाबाद और मुजफ्फरनगर जिले के पुलिस प्रशासन के लिए कानून व्यवस्था के लिए बड़ी चुनौती होती।
गुरुवार देर शाम में राकेश टिकैत ने आंदोलन जारी रखने का निर्णय लिया और पुलिस-प्रशासन के रूख से नाराज आये। राकेश के मुताबिक भाजपा के विधायक आंदोलन में गड़बड़ी करना चाहते थे, जिसके विरोध स्वरूप किसानों का धरना जारी रहेगा।
राकेश टिकैत ने बिजली पानी काटें जाने पर नारजगी जताई और कहा कि जब गांव से पानी आयेगा तभी पियेंगे। वही उन्होंने कहा कि वह गिरफ्तारी नही देंगे, चाहे उसके लिए गोली और लाठी खानी पड़े। राकेश टिकैत का रोता हुआ वीडियो जैसे ही किसानों के पिस आया तो वह एक जुट हो गए।
रात में ही सिसौली में पंचायत हुई और सुबह किसान आर-पार की लड़ाई के लिए तैयार होकर एक विशाल महापंचायत का ऐलान किया गया है।

मुजफ्फरनगर पंचायत अब किसान जिसमें आंदोलन की रणनीति तय करेंगी। फिलहाल किसानों के मूड को देखकर कहा जा सकता है कि वह अब आर-पार की लड़ाई लड़ने के लिए एक बार फिर से तैयार है।



और भी पढ़ें :